Vivo Y55s Review in Hindi, वीवो वाई55एस का रिव्यू

Vivo Y55s Review in Hindi, वीवो वाई55एस का रिव्यू

वीवो वाई55एस स्मार्टफोन, पिछले साल लॉन्च हुए वाई55एल का अपग्रेडेड वेरिएंट है। नए वेरिएंट की कीमत भी पिछले स्मार्टफोन जितनी ही है। और नए वाई55एस की अहम ख़ासियत है इसमें 3 जीबी रैम का होना। बॉक्स पर सुनहरे अक्षरों में इसे दर्शाया गया है।

इस स्मार्टफोन की कीमत 12,490 रुपये है जो इस स्मार्टफोन को सबसे प्रतिद्वंदी सेगमेंट में शामिल करता है। हमने इस कीमत वाले शाओमी रेडमी नोट 4 (रिव्यू), हॉनर 6एक्स और मोटो जी4 प्लस (रिव्यू) का रिव्यू किया है। स्पेसिफिकेशन की  बात करें, तो वीवो वाई55एस से इन तीनों स्मार्टफोन की तुलना में निराशा मिलती है। आइये रिव्यू में जानें

वीवो वाई55एस डिज़ाइन और बनावट
वाई55एस फ्रंट पर 2.5डी कर्व्ड एज-ग्लास के साथ एक साधारण कैंडीबार डिज़ाइन से लैस है। फोन में रियर पर एक सॉफ्ट गोल्ड फिनिश है। यह फोन आईफोन की तरह दिखता है जो कि चीनी निर्माताओं के लिए कोई नई बात नहीं है। फोन की मोटाई 7.5 एमएम और वज़न 147.9 ग्राम है। फोन का छोटा साइज़ इसे हाथ में पकड़ने में आसान बनाता है और सारे बटन भी पहुंच में रहते हैं। फोन में हेडफोन जैक के पास एक अलग माइक्रोएसडी कार्ड स्लॉट है। यह फोन डुअल-सिम सपोर्ट के साथ आता है। फोन का रियर मेटल का लगता है जबकि यह प्लास्टिक से बना है।

5.2 इंच एचडी डिस्प्ले ठीकठाक हाई पिक्सल डेनसिटी के साथ आता है, जिससे आइकन और टेक्स्ट स्पष्ट दिखते हैं। कलर रीप्रोडक्शन काफी अच्छा है और हमें व्यूइंग एंगल या सूरज की रोशनी में फोन को इस्तेमाल करने में कोई दिक्कत नहीं हुई। वाई55एस में पहले से एक स्क्रीन प्रोटेक्टर के साथ आता है।

फोन में नीचे दिए गए कैपेसिटिव नेविगेशन बटन बैकलट नहीं हैं और ना ही फोन में नोटिफिकेशन एलईडी है। लेकिन आप स्क्रीन ऑफ होने पर इनकमिंग कॉल, मैसेज और रिमाइंडर के लिए रियर एलईडी फ्लैश इस्तेमाल कर सकते हैं। फोन में फिंगरप्रिंट सेंसर का ना होना निराशाजनक है।
 

Vivo

कुल मिलाकर कहें, तो हमें फोन की बनावट और डिज़ाइन से बहुत ज़्यादा शिकायत नहीं है लेकिन हमें इसने आकर्षित नहीं किया। फोन का डिज़ाइन कोई नया नहीं है। वीवो ने फोन में एक स्टैंडर्ड 5 वाट पावर अडेप्टर, एक डेटा केबल, एक हेडसेट, एक सिलिकॉन केस और एक सिम इजेक्टर टूल दिया गया है।

वीवो वाई55एस स्पेसिफिकेशन और फ़ीचर
इस स्मार्टफोन में एक क्वाड-कोर क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 425 प्रोसेसर है जो 1.4 गीगाहर्ट्ज़ पर चलता है। जो कि वाई55एल में दिए गए ऑक्टा-कोर स्नैपड्रैगन 430 प्रोसेसर को देखते हुए अजीब चुनाव कहा जा सकता है। फोन में 3 जीबी रैम और 16 जीबी स्टोरेज है जिसे माइक्रोएसडी कार्ड के जरिए 256 जीबी तक बढ़ाया जा सकता है। फोन में ब्लूटूथ 4.2, वाई-फाई बी/जी/एन, 4जी वीओएलटीई, यूएसबी ओटीजी, एफएम रेडियो और जीपीएस जैसे फ़ीचर हैं। स्टैंडर्ड सेंसर के साथ फोन में एक वर्चुअल जायरोस्कोप भी है।

सॉफ्टवेयर की बात  करें तो, फोन में एंड्रॉयड मार्शमैलो आधारित फनटच ओएस 3.0 दिया गया है। वीवो वी5 प्लस के रिव्यू के बाद से इसमें कोई बदलाव नहीं किया गया है। अगर आपने वीवो फोन का इस्तेमाल नहीं किया है, तो आपको सभी कंट्रोल के लिए थोड़े बदलाव को सीखने होंगे। ब्राइटनेस, वॉल्यूम स्लाइडर और क्विक टॉगल के लिए डिस्प्ले पर ऊपर की तरफ स्वाइप करना होगा जबकि नोटिफिकेशन शेड को सिर्फ नोटिफिकेशन के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।
 

Vivo

फोन के सेटिंग ऐप में मोशन और टच जेस्चर, वन हैंडेड मोड, सुपर स्क्रीनशॉट और स्मार्ट क्लिक जैसे कस्टम फ़ीचर का विकल्प मिलता है। स्क्रीन ऑफ होने के दौरान, वॉल्यूम बटन को होल्ड रखने पर कई फंक्शन परफॉर्म किए जा सकते हैं। स्मार्ट स्पिलिट से किसी वीडियो को देखते समय मैसेज करने या व्हाट्सऐप इस्तेमाल करने के लिए प्लेयर से बाहर आए बिना स्क्रीन को आधे हिस्से में किया जा सकता है। स्टॉक ऐप में बैकअप के लिए वीवो क्लाउड, यूसी ब्राउज़र डब्ल्यूपीएस ऑफिस, अमेज़न, व्हाट्सऐप और एक थीम स्टोर है।

वीवो वाई55एस परफॉर्मेंस
जनरल यूआई परफॉर्मेंस अच्छी है और हमें रोजमर्रा के इस्तेमाल के दौरान फोन में कोई दिक्कत नहीं हुई। फोन में मल्टीटास्किंग आसानी से होती है। हालांकि, फोन में बड़े ऐप और गेम के लिए एंट्री लेवल प्रोसेसर का चुनाव सबसे अच्छा नहीं लगा। फोन से बेंचमार्क आंकड़े ठीकठाक मिले। फोन में 3डी गेम इंस्टॉल और खेल सकते हैं लेकिन कई बड़े गेम फोन को डाउन कर देंगे। 16 जीबी स्टोरेज पर्याप्त नहीं है और म्यूज़िक और वीडियो डाउनलोड करने पर स्टोरेज तेजी से खत्म हो जाती है।

वाई55एस में 1080 पिक्सल वीडियो आसानी से प्ले होती है। और हाई बिट-रेट वीडियो टेस्ट फाइल भी ठीक से चलीं। स्पीकर से आने वाली आवाज़ और स्पष्टता बहुत अच्छी नहीं है। और साउंट क्वालिटी सिर्फ अलर्ट के लिए ही ठीक है। फोन के साथ आने वाला हेडसेट इन-ईयर टाइप नहीं है, इसलिए क्वालिटी से बहुत ज़्यादा उम्मीदें ना रखें।
 

vivo
vivo
vivo

फोन में 13 मेगापिक्सल का रियर कैमरा है जो अपर्चर एफ/2.2 के साथ आता है। फोन से दिन की रोशनी में शानदार लैंडस्केप तस्वीरें और मैक्रो शॉट लिए जा सकते हैं। हालांकि, ज़ूम इन करने पर डिटेलिंग की कमी दिखती है और क्लोज़अप शॉट में शार्पनेस की कमी दिखती है। पीडीएएफ ना होने पर भी ऑटोफोकस तेजी से होता है। कम रोशनी में तस्वीरें थोड़ी नॉयज़ी आती हैं और नाइट मोड ऑन होने पर तस्वीरें थोड़ी बेहतर रहती हैं।

फोन में फेस ब्यूटी, पैनोरमा, प्रोफेशनल, स्लो-मोशन वीडियो, टाइम-लैप्स और अल्ट्रा एचडी जैसे शूटिंग मोड भी हैं। फोन के इंटरफेस को नेविगेट करना आसान है और सारे फंक्शन को परफॉर्म करना आसान है। सेल्फी लेने के लिए अपर्चर एफ/2.2 के साथ 5 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा है जिससे अच्छी रोशनी में शानदार डिटेलिंग के साथ सेल्फी आती है। हालांकि, स्क्रीन फ्लैश थोड़ा कमजोर है। फोन के रियर कैमरे से 1080 पिक्सल तक वीडियो रिकॉर्डिंग हो सकती है और क्वालिटी बेहद ठीकठाक है।

फोन के 2730 एमएएच की बैटरी परफॉर्मेंस ने हमें चौंका दिया। हमारे एचडी वीडियो लूप टेस्ट में, हमें 12 घंटे और 12 मिनट का प्लेबैक मिला, जो बहुत ख़राब नहीं है। सामान्य इस्तेमाल के समय हम एक पूरे दिन फोन को चला सके। वहीं, फोन को चार्ज होने में कुछ घंटे लगे।
 

Vivo

हमारा फैसला
वीवो वाई55एस एक शानदार एंट्री-लेवल स्मार्टफोन है लेकिन यह अपने प्रतिद्वंदियो को टक्कर देने में सक्षम नहीं है। रेडमी नोट 4, मोटो जी4 प्लस और हॉनर 6एक्स इस कीमत में ज़्यादा बेहतर विकल्प हैं। वाई55एस में अच्छी बैटरी लाइफ, अलग माइक्रोएसडी कार्ड स्लॉट और 4जी वीओएलटीई सपोर्ट है। लेकिन इसमें ज़्यादा दमदार प्रोसेसर, एक हाई रिज़ॉल्यूशन डिस्प्ले, फिंगरप्रिंट सेंसर और बेहतर कैमरे की कमी है।

इस फोन की कीमत अगर 7,000 रुपये के आसपास होती तो, इसे खरीदने की सलाह दी जा सकती थी। लेकिन 12,490 रुपये में कई दूसरे ज़्यादा बेहतर विकल्प मौज़ूद हैं।


Source link

Total Page Visits: 93 - Today Page Visits: 1