Redmi K20 Review in Hindi, रेडमी के20 का रिव्यू

Xiaomi ने इस साल मई में Redmi K20 को चीन में लॉन्च किया था और अब रेडमी के20 को भारतीय मार्केट में लॉन्च कर दिया गया है। भारत में रेडमी के20 की शुरुआती कीमत 21,999 है। इस कीमत में यह हैंडसेट आकर्षक डिजाइन, एमोलेड डिस्प्ले, 48 मेगापिक्सल प्राइमरी सेंसर, 4,000 एमएएच की बैटरी और 18 वॉट फास्ट चार्जिंग के साथ आता है। रेडमी के20 के मीयूआई में आपको विज्ञापन भी कम देखने को मिलेंगे। स्पेसिफिकेशन के आधार पर तो शाओमी ब्रांड का यह फोन बेहतरीन है लेकिन क्या यह अच्छे से फरफॉर्म कर पाता है या नहीं? आइए इसके बारे में जानते हैं…
 

Redmi K20 का डिज़ाइन

रेडमी के20 का डिज़ाइन काफी लुभावना लगता है। हमारे पास रिव्यू के लिए इसका ग्लेशियर ब्लू वेरिएंट है और फोन के पिछले हिस्से पर फ्लैम वाला ग्रेडिएंट पैटर्न दिया गया है। रेडमी के20 का बैक पैनल सभी का ध्यान अपनी ओर खींचता है। Xiaomi ने इसे ऑरा प्राइम डिज़ाइन नाम दिया है और इसे 6 लेयर स्टैकिंग प्रोसेस की सहायता से बनाया गया है।
फोन के पिछले हिस्से पर कर्व्ड गोरिल्ला ग्लास 5 का इस्तेमाल हुआ है। यह डिज़ाइन फोन के ग्लेशियर ब्लू और फ्लैम रेड वेरिएंट पर देखा गया है, लेकिन शाओमी ने रेडमी के20 का कार्बन ब्लैक वेरिएंट भी उतारा है जिसके बैक पैनल पर केवलर जैसी फिनिश का इस्तेमाल हुआ है।

घुमावदार ग्लास पैनल होने की वजह से फोन की हाथ में ग्रिप अच्छी रहती है लेकिन रेडमी के20 थोड़ा स्लिपरी है और फोन के बैक पैनल पर धब्बे भी जल्दी पड़ जाते हैं। रिटेल बॉक्स में आपको हार्ड प्रोटेक्टिव केस मिलेगा जिसपर मेट फिनिश है और यह बेहतर ग्रिप बनाए रखने में मदद करता है।
 

k20

फोन के किनारों पर दिए फ्रेम को सीरीज़ 6000 एल्यूमीनियम से बनाया गया है और यह बैक पैनल के कलर स्कीम से मिलता जुलता है। कुल मिलाकर, रेडमी के20 एक मजबूत फोन है और यह प्रीमियम लगता है। फोन के फ्रंट और बैक पैनल पर गोरिल्ला ग्लास 5 का इस्तेमाल हुआ है।

वॉल्यूम और पावर बटन को फोन के दाहिनी ओर जगह मिली है। आप लोगों की जानकारी के लिए बता दें कि रेडमी के20 का कैमरा मॉड्यूल थोड़ा उभरा हुआ है। पॉप-अप फ्रंट कैमरा मॉड्यूल में एलईडी लाइट दी गई है जो अंधेरे में चमकती हैXiaomi ने रेडमी के20 को ऑल-स्क्रीन लुक देने के लिए स्क्रीन के सभी तरफ से बॉर्डर को कम रखा है। इस प्राइस सेगमेंट के अन्य फोन की तुलना में फोन के निचले हिस्से में दिया बॉर्डर पतला है, जिससे फोन मॉर्डन लुक देता है।
 

Redmi K20 स्पेसिफिकेशन और सॉफ्टवेयर

21,999 रुपये की शुरुआती कीमत वाले रेडमी के20 के स्पेसिफिकेशन काफी प्रभावशाली हैं। रेडमी के20 का हार्डवेयर कंपनी के Redmi K20 Pro के समान है लेकिन इसमें केवल दो प्रमुख अंतर है। रेडमी के20 प्रो में स्नैपड्रैगन 855 प्रोसेसर और 48 मेगापिक्सल का Sony IMX586 सेंसर है जबकि रेडमी के20 में स्नैपड्रैगन 730 चिपसेट के साथ 48 मेगापिक्सल Sony IMX582 सेंसर का इस्तेमाल हुआ है।

दोनों सेंसर के बीच अंतर यह है कि Sony IMX586 सेंसर 60 फ्रेम प्रति सेकेंड पर 4K वीडियो रिकॉर्ड कर सकता है। जबकि Sony IMX582 केवल 30 फ्रेम प्रति सेकेंड पर वीडियो रिकॉर्ड करने में सक्षम है। स्नैपड्रैगन 730 प्रोसेसर वैसे भी 60 फ्रेम प्रति सेकेंड पर 4K वीडियो एन्कोडिंग सपोर्ट नहीं करता है।

डुअल-सिम (नैनो) वाले रेडमी के20 स्मार्टफोन में 6.39 इंच का एचडीआर एमोलेड फुल-एचडी+ (1080×2340 पिक्सल) डिस्प्ले है। इसका आस्पेक्ट रेशियो 19.5:9 और स्क्रीन-टू-बॉडी रेशियो 91.9 है। इसकी पिक्सल डेनसिटी 403 पिक्सल प्रति इंच है।
 

k20

डिस्प्ले की प्रोटेक्शन के लिए कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास 5 का इस्तेमाल हुआ है। फोन में दिया इन-डिस्प्ले फिंगरप्रिंट सेंसर तेज़ और सटीक है और यह रेडमी के20 को एक ही सेकेंड में अनलॉक कर देता है। फिंगरप्रिंट सेंसर सेट करते समय हमें चेतावनी दी गई थी कि एडहेसिव स्क्रीन प्रोटेक्टर सेंसर के काम में बाधा डाल सकता है इसलिए फोन के साथ कंपैटिबल प्रोटेक्टिव कवर का ही इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

रेडमी के20 के दो वेरिएंट हैं- एक 6 जीबी रैम और 64 जीबी स्टोरेज और दूसरा 6 जीबी रैम और 128 जीबी स्टोरेज के साथ। गौर करने वाली बात यह है कि स्टोरेज को माइक्रोएसडी कार्ड की मदद से बढ़ाना संभव नहीं होगा। रेडमी ब्रांड के इस फोन में तीन रियर कैमरे हैं, 48 मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा है जो Sony IMX582 सेंसर से लैस है और इसका अपर्चर एफ/1.75 है।

8 मेगापिक्सल का सेकेंडरी कैमरा टेलीफोटो लेंस के साथ जिसका अपर्चर एफ/2.4 है और 13 मेगापिक्सल का कैमरा है, वाइड-एंगल लेंस के साथ, जिसका फील्ड ऑफ व्यू 124.8 डिग्री है। सेल्फी और वीडियो कॉलिंग के लिए अपर्चर एफ/2.2 वाला 20 मेगापिक्सल का पॉप-अप सेल्फी कैमरा दिया गया है।

लेंस को सैफायर ग्लास से प्रोटेक्ट किया गया है, इसके अलावा फोन यदि गिर रहा हो तो मॉड्यूल खुद-ब-खुद बंद हो जाता है। कैमरा फीचर्स की बात करें तो रेडमी के20 स्मार्टफोन 960 फ्रेम प्रति सेकेंड पर स्लो मोशन वीडियो और 30 फ्रेम प्रति सेकेंड पर 4K वीडियो बनाने में सक्षम है।

इसके अलावा फोन में आपको नाइट मोड, 48 मेगापिक्सल मोड, लाइटिंग इफेक्ट, और ब्यूटीफिकेशन फिल्टर्स मिलेंगे। रेडमी के20 में जान फूंकने के लिए 4,000 एमएएच की बैटरी दी गई है जो 18 वॉट फास्ट चार्जिंग सपोर्ट से लैस है। रेडमी के20 क्विक चार्ज 3.0 सपोर्ट के साथ आता है।
 

k20

सॉफ्टवेयर की बात करें तो रेडमी के20 एंड्रॉयड 9 पाई पर आधारित MIUI 10.3.3 पर चलता है। बता दें कि शाओमी ने हाल ही में रेडमी के20 के लिए पहले सॉफ्टवेयर अपडेट को जारी कर दिया है। रेडमी के20 के यूआई में ऐप ड्रावर दिया गया है, यह फीचर पिछले लंबे समय से मीयूआई से गायब था।

अन्य प्रमुख आकर्षण सिस्टम-वाइड डार्क मोड है। बाकी इंटरफेस टिपिकल MIUI है जिसमें कई कस्टमाइजेशन ऑप्शन और उपयोगी फीचर्स दिए गए हैं। रेडमी के20 में Amazon, Facebook, डब्ल्यूपीएस ऑफिस, Dailyhunt और Paytm जैसे कई थर्ड-पार्टी और इन-हाउस ब्लॉटलवेयर मिलेंगे।

सभी थर्ड पार्टी ऐप्स को अनइंस्टॉल किया जा सकता है। एक बात जो राहत देने वाली लगी वह यह थी कि विज्ञापन की फ्रीक्वेंसी कम थी। शाओमी ने लॉन्च इवेंट में कहा था कि कंपनी के अन्य स्मार्टफोन की तुलना में रेडमी के20 और रेडमी के20 प्रो स्मार्टफोन में यूज़र को कम विज्ञापन देखने को मिलेंगे। हमने इसे काफी हद तक सही पाया।

इंटरफेस में आपको परिवर्तन देखने को मिलेगा। पिछले ऐप पर स्विच करने के लिए स्वाइप जेस्चर हमेशा काम नहीं करता है। ऐप ड्रावर में ऐप्स का कैटेगराइजेशन भी सटीक नहीं है। उदाहरण के लिए, डाउनलोड, फाइल मैनेजर और Gmail नोलेज एंड एजुकेशन कैटेगरी में दिख रहे हैं।

जब नेविगेशन जेस्चर ऐनेबल होता है तो उस वक्त जब तक क्विक बॉल टूल एक्टिवेट ना हो तब तक वन-हैंड मोड एक्टिवेट नहीं होगा। कुल मिलाकर रेडमी के20 का मीयूआई अन्य रेडमी सीरीज़ के फोन की तुलना में ज्यादा संशोधित है। फोन में आपको एंबियंट डिस्प्ले फीचर मिलता है जोकि एक अच्छा फीचर है।
 

Redmi K20 का डिस्प्ले और परफॉर्मेंस

रेडमी के20 में 6.39 इंच का एमोलेड डिस्प्ले अच्छा है और विशेष रूप से तब जब मीयूआई का डार्क मोड ऐनेबल होता है। कलर्स सही से दिखते हैं और व्यूइंग एंगल भी अच्छे हैं। डिस्प्ले 600 निट्स की अधिकतम ब्राइटनेस प्रदान करता है।सूरज की रोशनी में डिस्प्ले पर पढ़ने में किसी तरह की दिक्कत नहीं हुई और इस प्राइस सेगमेंट में कॉन्ट्रास्ट लेवल बेहतरीन है।

रेडमी के20 के डिस्प्ले पर ईमेल और कंटेंट देखने में आंखों को कोई परेशानी नहीं हुई। हालांकि, हमने पाया कि स्क्रीन ब्राइटनेस कभी-कभी अनियमित ढंग से एडजस्ट होती थी, जिस वज़ह से हमे फिर इसे मैनुअली रूप से रीसेट करना पड़ता था।

डिस्प्ले एचडीआर सर्टिफाइड है। लेकिन गौर करने वाली बात यह है कि जो फोन Netflix के एचडीआर10 कंटेंट को सपोर्ट करते हैं उस लिस्ट में फिलहाल रेडमी के20 का नाम शामिल नहीं है। इसका मतलब आप Netflix के एचजीआर 10 कंटेंट को अपने रेडमी के20 डिवाइस पर फिलहाल नहीं देख पाएंगे। लेकिन हमें YouTube पर एचडीआर वीडियो देखने में कोई समस्या नहीं हुई।
 

k20

फुल-स्क्रीन डिस्प्ले अच्छा लगता है और कैमरा होल या नॉच नहीं होने की वज़ह से डिस्प्ले पर कंटेंट देखना अच्छा लगता है। आप चाहें तो कलर टेंपरेचर और कॉन्ट्रास्ट को अपनी पंसद के अनुसार एडजस्ट कर सकते हैं। इसके अलावा यूज़र स्वतंत्र रूप से नाइट मोड के ब्राइटनेस और टेंपरेचर को भी सेट कर सकते हैं।

रेडमी के20 में रीडिंग मोड भी दिया गया है, इस प्राइस सेगमेंट में रेडमी के20 का डिस्प्ले अच्छा है। अब बात फोन के परफॉर्मेंस की। स्नैपड्रैगन 730 प्रोसेसर होने की वज़ह से फोन को इस्तेमाल करते वक्त फोन बिल्कुल भी धीमा नहीं हुआ। इतना ही नहीं, बैकग्राउंड में 10 से 15 ऐप्स चलने के बाद भी एक से दूसरे ऐप पर स्विच करना स्मूथ था।

हमने PUBG Mobile को हाई ग्राफिक्स सेटिंग्स पर खेलकर देखा तो हमें ना ही फ्रेम ड्रॉप की परेशानी हुई और ना ही फोन धीमा हुआ।शाओमी ने फोन में कई काम के फीचर्स दिए हैं और गेम टर्बो 2.0 टूल स्पीड बूस्ट करने में मदद करता है।

पबजी मोबाइल में, उदाहरण के लिए प्लेयर टच रिस्पॉन्स और स्क्रीन की सेंसिटिविटी को एडजस्ट कर सकते हैं। गेम बूस्टर ऐप के एडिशनल सेटिंग्स में एन्हांसड विजुअल नाम से एक फीचर मिलेगा। इस फीचर की मदद से यूज़र ऑरिजनल, मोडरेट, स्ट्रांग और एक्सट्रीम विजुअल प्रीसेट में से चुनाव कर सकते हैं।
 

k20

गेम बूस्टर क्विक सेटिंग पैनल की सुविधा भी प्रदान करता है जिसे स्क्रीन के ऊपरी बायीं कोने से स्वाइप करके एक्सेस किया जा सकता है। यह सीपीयू और जीपीयू यूसेज़ के आंकड़े को दर्शाता है और स्क्रीनशॉट, गेमप्ले रिकॉर्डिंग और क्लियरिंग मेमोरी जैसे निफ्टी शॉर्टकट प्रदान करता है।

WhatsApp और Facebook जैसे ऐप्स के लिए भी शॉर्टकट हैं, जिन्हें छोटी फ्लोटिंग विंडो में खोला जा सकता है। यह इम्प्लिमेन्टेशन Asus ROG Phone में दिए गेम जिनी के समान है। रेडमी के20 का स्नैपड्रैगन 730 प्रोसेसर पिछले साल लॉन्च हुए फ्लैगशिप स्मार्टफोन में दिए स्नैपड्रैगन 845 के स्तर पर नहीं है जो अब लगभग 25,000 रुपये की कीमत के साथ मार्केट में उपलब्ध हैं। लेकिन यह स्नैपड्रैगन 675 और स्नैपड्रैगन 710 की तुलना में एक ठोस अपग्रेड है।
 

Redmi K20 के कैमरा और बैटरी लाइफ

रेडमी के20 में उसी कैमरा हार्डवेयर का इस्तेमाल हुआ है जो फ्लैगशिप Redmi K20 Pro में है। दोनों में केवल अंतर सेंसर का है जैसा कि हमने आपको ऊपर भी बताया है। तीसरा रियर कैमरा अतिरिक्त बोनस है। हमारे कैमरा टेस्ट में रेडमी के20 ने अच्छा परफॉर्म किया।

कैमरा डिफॉल्ट रूप से 12 मेगापिक्सल की पिक्सल-बाइनिंग फोटो खींचता है लेकिन 48 मेगापिक्सल मोड भी है जो फुल-रिजॉल्यूशन 48 मेगापिक्सल तस्वीर प्रदान करता है। प्राइमरी सेंसर द्वारा खींची गई तस्वीरें क्रिस्प आईं और इनमें डिटेल भी अच्छे से कैप्चर हुई। तस्वीरों में डायनामिक रेंज भी अच्छी है।

k20

हमने देखा कि रेडमी के20 दिन के उजाले में डिफॉल्ट रूप से हाई ISO लेवल पर तस्वीर को कैप्चर करता है जिस वज़ह से हमारे कुछ शॉट्स थोड़े ओवरसेचुरेटेड लगे। क्लोज़-अप शॉट में ग्रेडिएंट अच्छे कॉन्ट्रास्ट के साथ विविड डिटेल के साथ आए। लेकिन ऑब्जेक्ट के एज में शार्पनेस की कमी लगी।

48 मेगापिक्सल मोड पर शूट करने पर ज्यादा डिटेल और अच्छा कॉन्ट्रास्ट देखने को मिला लेकिन हमें 12 मेगापिक्सल रिजॉल्यूशन पर खींची गई तस्वीरें ही पसंद हैं क्योंकि यह ज्यादा वाइब्रेंट लगती हैं। रेडमी के20 द्वारा खींचे गए मैक्रो शॉट्स में डिटेल अच्छे से कैप्चर हुई और कलर्स भी अच्छे से दिखे।

कैमरा कभी-कभी कलर्स को ज्यादा बूस्ट कर देता है, एआई कैमरा मोड को डिसेबल कर आप इस समस्या से कुछ हद तक बच सकते हैं। टेलीफोटो कैमरा पोर्टेट शॉट्स के लिए काम में आता है और यह सब्जेक्ट और बैकग्राउंड को अलग-अलग रखने में अच्छा काम करता है।

img
img
img
img

एज डिटेक्शन भी अच्छा है। रेडमी के20 में कई पोर्टेट लाइटिंग इफेक्ट भी दिए गए हैं। दिन की रोशनी में लिए गए पोर्टेट शॉट्स अच्छे आए लेकिन इनडोर और कम रोशनी में लिए गए शॉट्स को ज़ूम करने पर देखने पर ग्रेन नज़र आते हैं।

वाइड-एंगल कैमरा अच्छी तस्वीरें खींचता है और डिस्टॉर्शन करेक्शन फीचर की वज़ह से हमें तस्वीर में अननेचुरल वॉर्पिंग जैसा कुछ भी देखने को नहीं मिला। रेडमी के20 लो-लाइट में कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाया। कम रोशनी में खींची गई तस्वीरों में नॉयस और कलर सही से कैप्चर नहीं हुए।

नाइट मोड नॉयस कम करने और ब्राइटनेस को बढ़ाने में मदद करता है, लेकिन डिटेल और कलर्स की कमी लगी। नाइट मोड ISO को बढ़ाता है और फ्रेम में सब्जेक्ट पर शार्पनेस की कमी नहीं लगती। रेगुलर मोड की तुलना में नाइट मोड सब्जेक्ट एक्सपोज़र के साथ अच्छा काम करता है।

वाइड-एंगल कैमरे से लो-लाइट में खींची गई तस्वीरों में कमजोर एक्सपोज़र, डिटेल की कमी और ग्रेनी टेक्स्चर की झलक देखने को मिली। हमने पाया कि मोटोरोला वन विज़न (रिव्यू) का नाइट मोड रेडमी के20 में दिए नाइट मोड से बेहतर था।20 मेगापिक्सल का पॉप-अप सेल्फी कैमरा से खींची गई तस्वीर में नेचुरल कलर्स और डिटेल अच्छे से कैप्चर हुए।

पोर्टेट सेल्फी में सब्जेक्ट सेपरेशन और एज डिटेक्शन अच्छा था, लेकिन रेगुलर सेल्फी की तुलना में इसमें शार्पनेस की थोड़ी कमी लगी। इनडोर और कम रोशनी में खींची गई तस्वीरों में लो डायनामिक रेंज़ और शार्पनेस की कमी देखने को मिली।

4K वीडियो में डिटेल और नेचुरल कलर अच्छे से कैप्चर हुए। फोन में OIS नहीं है लेकिन EIS ने हाथों की मूवमेंट को अच्छे से हैंडल किया। इस प्राइस सेगमेंट में आने वाले अन्य फोन की तुलना में रेडमी के20 की डायनामिक रेंज़ भी अच्छी थी।

अल्ट्रा-वाइड एंगल कैमरा द्वारा शूट किए गए 4K वीडियो थोड़े ओवरसेचुरेटेड लगे और प्राइमरी कैमरा द्वारा कैप्चर किए शॉट की तुलना में डायनामिक रेंज़ भी कम है। स्लो-मो वीडियो भी स्मूथ आईं। रेडमी के20 की बैटरी लाइफ भी काफी अच्छी है।

दिनभर फोन में सोशल मीडिया, प्रोडक्टिविटी ऐप्स, एक घंटे तक गेमिंग, कुछ घंटों तक ब्लूटूथ हेडफोन में म्यूज़िक सुनना और कॉलिंग के बाद भी दिन के अंत में फोन में 30 से 35 प्रतिशत बैटरी शेष रहती थी। हमारे एचडी वीडियो बैटरी लूप टेस्ट में फोन ने 25 घंटे और 17 मिनट तक साथ दिया। फोन के साथ आने वाला 18 वॉट का चार्जर 32 मिनट में फोन को 0 से 45 प्रतिशत तक चार्ज कर देता है और लगभग 1 घंटे 40 मिनट में फोन फुल चार्ज हो जाता है।
 

हमारा फैसला

रेडमी के20 को लेकर कुछ लोगों को नाराजगी है, कई फैंस और संभावित खरीदारों ने अपनी निराशा भी व्यक्त की है कि कंपनी ने हैंडसेट को 20,000 रुपये से कम के प्राइस सेगमेंट में नहीं उतारा है। इस प्राइस सेगमेंट में रेडमी के20 की परफॉर्मेंस बहुत ही प्रभावशाली है। रेडमी के20 का डिज़ाइन सभी का ध्यान अपनी ओर खींचने वाला है। डिस्प्ले बेहतरीन क्वालिटी की है और फोन में सिक्योरिटी के लिए दिया इन-डिस्प्ले फिंगरप्रिंट सेंसर भी तेज़ी और सटीक तरीके से काम करता है।

रेडमी के20 का कैमरा हार्डवेयर प्रभावशाली है लेकिन इसकी लो-लाइट परफॉर्मेंस कुछ खास अच्छी नहीं लगी लेकिन कुल मिलाकर इसकी क्वालिटी अच्छी है। फोन की बैटरी लाइफ भी दमदार है और आप सिंगल चार्ज में पूरा दिन इसे इस्तेमाल कर सकते हैं। स्नैपड्रैगन 730 प्रोसेसर इस्तेमाल के दौरान बिल्कुल भी धीमा नहीं है। इसके अलावा मीयूआई में कम विज्ञापन देखने को मिले, फोन में आपको डार्क मोड, ऐप ड्रावर और एंबियंट डिस्प्ले मिलेगी।

यदि आप अन्य विकल्पों की तलाश कर रहे हैं, तो पिछले साल स्नैपड्रैगन 845 प्रोसेसर से लैस कुछ फ्लैगशिप स्मार्टफोन लॉन्च किए गए थे और इसमें Poco F1 और Asus 5Z का नाम शामिल है। Samsung Galaxy A50 (रिव्यू), Vivo V15 Pro और Nokia 8.1 (रिव्यू) भी मिड-रेंज़ में आने वाले कुछ विकल्प है लेकिन इनमें से कोई भी रेडमी के20 की परफॉर्मेंस से मुकाबला नहीं कर सकता है।

अगर आप 20,000 रुपये से कम के प्राइस सेगमेंट में स्मार्टफोन की तलाश कर रहे हैं तो Realme X (रिव्यू), Samsung Galaxy M40 (रिव्यू), Realme 3 Pro , Vivo Z1 Pro (रिव्यू) और Redmi Note 7 Pro (रिव्यू) एक बेहतरीन विकल्प है। लेकिन इनमें से कोई भी हैंडसेट रेडमी के20 से मुकाबला नहीं कर सकता है।


Source link

Total Page Visits: 23 - Today Page Visits: 2