Poco X3 Review in Hindi, पोको एक्स3 का रिव्यू

Poco X3 Review in Hindi, पोको एक्स3 का रिव्यू

यदि आप “फ्लैगशिप किलर” Poco F1 के प्रबल उत्तराधिकारी का इंतजार कर रहे हैं, तो आपको और लंबा इंतजार करना होगा, क्योंकि पोको का लेटेस्ट स्मार्टफोन Poco X3 मिड-रेंज सेगमेंट में लॉन्च हुआ है और निश्चित तौर पर यह फ्लैगशिप किलर स्पेसिफिकेशन्स से लैस नहीं आता है। हालांकि नया पोको एक्स3 हाल के कुछ रेडमी स्मार्टफोन्स के जुड़वा पोको स्मार्टफोन्स के विपरीत ताज़ा डिज़ाइन लाता है। इसमें नया क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 732जी चिपसेट भी शामिल है, जो Poco X2 में शामिल स्नैपड्रैगन 730जी का अपग्रेड है। इसमें आपको बड़ी 6,000mAh बैटरी मिलती है और यह सब 16,999 रुपये की शुरुआती कीमत में उपलब्ध है। क्या यह मौजूदा पोको एक्स2 का एक उचित अपग्रेड है या नहीं? चलिए पता करते हैं।
  

Poco X3 design

Poco X3 में कंपनी ने नए डिज़ाइन को चुना है और यह किसी भी मौजूदा रेडमी मॉडल की तरह नहीं दिखता है। Poco X2 (रिव्यू) की तुलना में, नए X3 में सिंगल सेल्फी कैमरा मिलता है, जो स्मार्टफोन के टॉप सेंटर में स्थित है। पोको ने हालांकि डिस्प्ले के मामले में कुछ भी नहीं बदला है और आपको अभी भी 120Hz रिफ्रेश रेट के साथ 6.67-इंच का पैनल मिलता है। किफायती सेगमेंट में हाई रिफ्रेश रेट का मिलना धीरे-धीरे आम हो रहा है और यदि आप अपने स्मार्टफोन पर बहुत अधिक गेम खेलते हैं, तो यह आपके लिए फायदेमेंट भी है। डिस्प्ले के चारों ओर पतले बेज़ल्स हैं, लेकिन कैमरा होल कुछ लोगों के लिए थोड़ा ध्यान भटकाने वाला हो सकता है।

poco

डिवाइस को उठाते ही आप देखेंगे कि यह भारी है। 225 ग्राम वज़न के साथ यह स्मार्टफोन Samsung Galaxy M51 (रिव्यू) से भी भारी है, जो एक बड़ी 7,000mAh बैटरी से लैस आता है। पोको एक्स3 का वज़न अच्छी तरह से संतुलित है और फोन के हाथों से गिरने की संभावना नहीं है। हालांकि, थोड़ी देर के लिए डिवाइस का इस्तेमाल करने के बाद, आपको हाथों में थकान महसूस हो सकती है।

Poco X3 specifications

Poco X2 को लगभग सात महीने पहले लॉन्च किया गया था और इसने अपने स्पेसिफिकेशन्स के चलते अपने सेगमेंट में अच्छी पहचान बनाई है। पोको ने नए फोन में बहुत कुछ नहीं बदला है; आपको अभी भी 120Hz रिफ्रेश रेट वाला बड़ा फुल-एचडी+ डिस्प्ले मिलता है। पैनल में 240Hz टच सैंपलिंग रेट भी है।

फोन में नया स्नैपड्रैगन 732जी प्रोसेसर है, जो आर्किटेक्चर के मामले में स्नैपड्रैगन 730जी के समान है, लेकिन सीपीयू कोर और साथ ही साथ जीपीयू में थोड़ा अंतर लेकर आता है। इसके परिणामस्वरूप इसमें बेहतर प्रदर्शन मिलता है। Poco X3 में तीन कॉन्फिगरेशन मिलते हैं – 64 जीबी स्टोरेज के साथ 6 जीबी रैम, 128 जीबी स्टोरेज के साथ 6 जीबी रैम और 128 जीबी स्टोरेज के साथ 8 जीबी रैम। इन तीनों की कीमत क्रमश: 16,999 रुपये, 18,999 रुपये और 19,999 रुपये। यह रिव्यू फोन के मिड वेरिएंट का है।
 

poco

जबकि पोको एक्स3 के अंतर्राष्ट्रीय वेरिएंट को NFC मिलता है, भारतीय वेरिएंट बड़ी बैटरी लेकर आता है। हमें 6,000mAh बैटरी मिलती है, जो 33W फास्ट चार्जिंग सपोर्ट करती है। पोको एक्स3 में स्टीरियो स्पीकर भी है और स्मार्टफोन IP53 धूल और पानी प्रतिरोधी रेटिंग के साथ आता है।

Poco X3 को एंड्रॉइड 10 पर आधारित MIUI 12 के साथ लॉन्च किया गया है। हमारी यूनिट सितंबर एंड्रॉयड सुरक्षा पैच पर चल रही थी। X3 पर पहले से इंस्टॉल कई ब्लोटवेयर ऐप्स और गेम्स आते हैं और हम आपको सुझाव देंगे कि आप इनकी ज़रूरत न होने पर इन्हें हटा दें।
 

Poco X3 performance

पोको एक्स3 में अच्छा प्रदर्शन देने के लिए पर्याप्त हार्डवेयर है और इसका उपयोग करते समय हमें किसी भी समस्या का सामना नहीं करना पड़ा। X3 ऐप्स और गेम्स को लोड करने में तेज़ था और यह बहुत आसानी से मल्टीटास्किंग कर लेता है। हमें पोको एक्स3 पर वीडियो देखने में मज़ा आया, क्योंकि डिस्प्ले में अच्छे व्यूइंग एंगल्स हैं और स्टीरियो स्पीकर अनुभव को बढ़ाते हैं। साइड-माउंटेड फिंगरप्रिंट स्कैनर फास्ट है और चेहरे की पहचान करने के लिए फेस अनलॉक का इस्तेमाल करता है, जो फिज़िकल स्कैनर की तरह ही फास्ट है।
 

poco

हमने Poco X3 पर Call of Duty: Mobile और Among Us खेला और डिवाइस ने किसी प्रकार का लैग नहीं दिखाया। स्क्रीन रिफ्रेश रेट डिफॉल्ट रूप से 120Hz पर सेट किया गया था और हमने गेम खेलते समय इसे नहीं बदला। कॉल ऑफ ड्यूटी: मोबाइल बिना किसी समस्या के हाई सेटिंग्स पर आसानी से चला। हमने 25 मिनट के लिए गेम खेला और स्मार्टफोन की बैटरी 7 प्रतिशत गिरी। गेमिंग के बाद फोन का टच से थोड़ा गर्म ज़रूर हुआ।

बैटरी लाइफ अच्छी है और पोको एक्स3 आपको बिना किसी समस्या के एक दिन तक का बैकअप दे देता है। हमारे एचडी वीडियो लूप टेस्ट में फोन 18 घंटे, 31 मिनट तक चला, जो काफी अच्छा है। फास्ट चार्जिंग के लिए सपोर्ट है और बॉक्स के अंदर 33W चार्जर मिलता है। इसके इस्तेमाल से बैटरी 30 मिनट में 57 प्रतिशत और एक घंटे में 92 प्रतिशत तक चार्ज हो गई।
 

Poco X3 cameras

पोको एक्स3 में क्वाड-कैमरा सेटअप है, जिसमें एफ/1.89 अपर्चर के साथ 64-मेगापिक्सल का प्राइमरी सेंसर, 13-मेगापिक्सल का अल्ट्रा-वाइड एंगल कैमरा, जिसमें 119-डिग्री फील्ड ऑफ व्यू है, 2-मेगापिक्सल का मैक्रो कैमरा और एक डेप्थ सेंसर है। फ्रंट में 20 मेगापिक्सल का सेल्फी कैमरा है। कैमरा ऐप का उपयोग करना आसान है और इसमें चुनने के लिए कई शूटिंग मोड्स हैं।
 

poco

एचडीआर के साथ-साथ एआई के लिए क्विक टॉगल हैं, जो आपको शूटिंग के दौरान कैमरा फीचर को अच्छे से कंट्रोल करने का विकल्प देता है। MIUI 12 में कैमरा यूआई बदल गया है और अब इसका उपयोग करना आसान हो गया है। एक नया Vlog मोड है, जो शूटिंग के दौरान बैकग्राउंड म्यूज़िक और वीडियो इफेक्ट्स जोड़ता है। यह बिल्कुल नया है और सोशल मीडिया पर वीडियो अपलोड करने वालों के लिए बहुत काम का फीचर है।
 

poco
poco

Poco X3 डिफॉल्ट रूप से तस्वीरों पर वॉटरमार्क जोड़ता है, इसलिए फोटो लेने से पहले कैमरा सेटिंग्स में इस विकल्प को बंद करना सुनिश्चित करें। इसका 64-मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा डिफॉल्ट रूप से 16-मेगापिक्सल का फोटो लेता है। दिन के उजाले में प्राइमरी कैमरे का उपयोग करके शूट की गई तस्वीरों में अच्छी डिटेल थी और यहां तक ​​कि दूरी पर मौजूद टेक्स्ट भी साफ आया। हालांकि कैमरा आक्रामक रूप से ब्लैक्स को दबा देता है, जिससे छाया में डिटेल कम आती है। वाइड-एंगल कैमरे पर स्विच करने से बड़ा क्षेत्र दिखाई देता है, लेकिन डिटेल्स में कमी आ जाती है। वाइड-एंगल कैमरा ने थोड़ा अलग रंग टोन भी पैदा किया, जो आउटपुट में साफ दिखाई दिया।
 

poco
poco
poco

क्लोज़-अप अच्छे थे और Poco X3 ने सब्जेक्ट और बैकग्राउंड से अच्छे से अलग किया। यह बैकग्राउंड में गहराई भी अच्छे से जोड़ता है। पोर्ट्रेट में एज डिटेक्शन अच्छा था और एक्स3 आपको शॉट लेने से पहले ब्लर का लेवल सेट करने का विकल्प भी देता है। मैक्रो कैमरा 2-मेगापिक्सल रिज़ॉल्यूशन तक सीमित है और आपको सब्जेक्ट के करीब आने देता है, लेकिन आउटपुट औसत मिला।
 

poco
poco

लो-लाइट कैमरा परफॉर्मेंस औसत थी। डिफॉल्ट मोड में ली गई तस्वीरें सॉफ्ट थीं और उन पर पानी के रंग जैसा प्रभाव था। नाइट मोड को सक्षम करने से आउटपुट पर ध्यान देने लायक अंतर आया – फोटो शार्प थे और बेहतर डिटेल्स थे। हालांकि, नाइट मोड में शॉट लेने में 3-4 सेकंड का समय लगता है। वाइड-एंगल कैमरा लो-लाइट में शूटिंग के लिए अच्छा नहीं है क्योंकि यह प्राइमरी सेंसर जितना लाइट नहीं पकड़ सका।
 

poco
poco

डेलाइट सेल्फी सभ्य थी और आपके पास सेल्फी शूटर का उपयोग करके प्रोट्रेट शॉट लेने का विकल्प है। एआई मास्क के साथ चेहरे का पता नहीं लगाता है और ऐसे मामलों में बैकग्राउंड को धुंधला नहीं करता है। कम रोशनी में शूट की गई सेल्फी औसत थीं, लेकिन यह फोन आपको सेल्फी के लिए नाइट मोड का इस्तेमाल करने देता है।
 

Verdict

Poco X3 Poco X2 का अपग्रेड है और यह कुछ अपग्रेड्स लाता है। यह पोको एक्स2 की तुलना में सब कुछ थोड़ा बेहतर करता है। यह बेहतर प्रदर्शन देता है और बड़ी बैटरी इसे लंबे समय तक चलने में मदद करती है। हालांकि, यह अपने पूर्ववर्ती की तुलना में बहुत भारी है। यदि आप पोको एक्स2 को खरीदने की सोच रहे थे, लेकिन थोड़ा और खर्च करने का मन बना सकते हैं, तो आप Poco X3 के साथ जा सकते हैं, क्योंकि यह कीमत में मामूली बढ़ोतरी में कुछ अच्छे अपग्रेड्स देता है। Realme 7 Pro (रिव्यू) एक और उपयुक्त विकल्प है, जिसे आप उसी कीमत पर खरीद सकते हैं।


Source link

Total Page Visits: 114 - Today Page Visits: 1