OnePlus 3 Review in Hindi, वनप्लस 3 का रिव्यू

चीनी कंपनी वनप्लस ने बहुत कम समय में ही एक लंबा सफर तय कर लिया है। कंपनी ने दुनिया में सबसे बेहतर ट्रैक्ड स्मार्टफोन बनाने के लिए खासी चर्चा बटोरी है। अब तक कंपनी ने चार स्मार्टफोन पेश किए हैं। वनप्लस ने अपना फ्लैगशिप स्मार्टफोन को उस कीमत पर पेश किया है जो फ्लैगशिप के आसपास भी नहीं ठहरती।

हालांकि, वनप्लस ने पिछले दो सालों में कई स्मार्टफोन खरीददारों का ध्यान अपनी तरफ खींचा है, लेकिन वे ‘फ्लैगशिप किलर’ नहीं रहे हैं। इन स्मार्टफोन को कंपनी ने फ्लैगशिप स्मार्टफोन की तरह ही पेश किया था। वनप्लस 1 (रिव्यू) स्मार्टफोन की परफॉर्मेंस शानदार थी लेकिन इसने डिजाइन, बैटरी और कैमरा डिपार्टमेंट में निराश किया था। वनप्लस 2 (रिव्यू) में कई दूसरी खामियों के साथ सॉफ्टवेयर और फिंगरप्रिंट सेंसर में कमी देखी गई थी। वनप्लस एक्स (रिव्यू) अभी तक कंपनी का सबसे अफॉर्डेबल फोन रहा है लेकिन हमें इसकी बनावट और कैमरे में कुछ दिक्कत देखने को मिली थी। इस सबको छोड़ भी दें तो कंपनी के इनवाइट सिस्टम के तहत वनप्लस डिवाइस को खरीदना बेहद मुश्किल था।
 

ऐसा लगता है कि वनप्लस ने यूज़र के मन की बात सुन ली है। कंपनी ने अब आखिरकार अपने इनवाइट सिस्टम को खत्म करने का ऐलान कर दिया है और अपने अफोर्डेबल फोन की सीरीज में एक नया फ्लैगशिप स्मार्टफोन पेश कर दिया है। वनप्लस 3 को 27,999 रुपये में लॉन्च किया गया है और यह स्मार्टफोन फ्लैगशिप फोन की कैटेगरी में इस कीमत के साथ नई चुनौती दे रहा है। हालांकि, इस स्मार्टफोन को दूसरे कामयाब स्मार्टफोन शाओमी एमआई 5 (रिव्यू) से कड़ी टक्कर मिलेगी। क्या वनप्लस 3 एक कामयाब फोन बन पाएगा? जानें हमारे रिव्यू में इस फोन की कमियां व खूबियां।
लुक व डिजाइन
वनप्लस 3 में कंपनी ने एक बहुत बड़ा बदलाव किया है जिससे फोन की बनावट पूरी तरह बदल गई है। स्टैंडटोन फिनिशिंग के साथ आने वाले रियर पैनल को खत्म कर दिया गया है। इसकी जगह कोल्ड, हार्ड एल्युमिनियम ने ले ली है। इसके अलावा, यह फोन डल मैटेलिक फिनिश के साथ यूनिबॉडी का बना है जिससे यह फोन एचटीसी वन एम9 की याद दिलाता है। वनप्लस 3 एक खूबसूरत, अच्छी बनावट वाला फोन है और आखिरकार यह वनप्लसको बेहतरीन डिजाइन पेश करने वाली कंपनी की लीग में लाकर खड़ा करता है।

फोन का फ्रंट भी काफी स्टाइलिश है। स्क्रीन के एज पर पर कर्व्स के साथ कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास 4 दिया गया है जिससे फोन किसी तरह के स्क्रैच और नुकसान से बचता है। इसके अलावा फ्रंट में एक कैपेसिटिव होम बटन है जिसमें फिंगरप्रिंट सेसंर इनबिल्ट है। होम बटन के दोनों तरफ दो और कैपेसिटिव बटन है। आमतौर पर ये बटन इनविजिबल हैं लेकिन बटन को टच करने पर बैकलाइट एक्टिवेट हो जाती है। फोन में दिए गए सॉफ्टवेयर की मदद से इन बटन को डीएक्टिवेट भी किया जा सकता है और आप अपनी सुविधानुसा ऑन-स्क्रीन बटन पर स्विच कर सकते हैं। हमारी रिव्यू यूनिट में पहले से स्क्रीन प्रोटेक्टर फिल्म इंस्टॉल थी लेकिन इससे फ्रंट पूरी तरह कवर नहीं होता और आसानी से स्क्रैच पड़ जाते हैं। इसलिए हम बिना स्क्रीन प्रोटेक्टर फिल्म के ही फोन पसंद करेंगे।
 

वनप्लस 2 की तुलना में वनप्लस 3 में दिए गए फिंगरप्रिंट सेंसर में काफी अहम बदलाव किया गया है। यह आसानी से फोन को अनलॉक कर देता है और स्टैंडबाय मोड में होने पर भी बना डिवाइट को एक्टिवेट किए ही पोन अनलॉक हो जाता है। दूसरे कई डिवाइस की तुलना में वनप्लस 3 का फिंगरप्रिंट सेंसर काफी तेज है, एमआई 5 में भी फोन को अनलॉक करने के लिए पहले फिजिकल होम बटन पर प्रेस करना होता है। वनप्लस 3 में पांच फिंगरप्रिंट तक स्टोर किए जा सकते हैं और सेंसर को परचेज ऑथराइज करने और कुछ निश्चित ऐप के कंट्रोल को एक्सेस करने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

फोन के किनारे काफी अच्छे से डिजाइन किए गए हैं। वनप्लस के जाने-पहचाने अलर्ट स्लाइडर और वॉल्यूम बटन बायीं तरफ दिए गए हैं। दायीं तरफ पॉवर बटन और डुअल सिम ट्रे है। नीचे की तरफ स्पीकर, यूएसबी टाइप-सी पोर्ट और 3.5 एमएम शॉकेट हैं। हालांकि फोन 7.35 एमएमम पतला है लेकिन कर्व्ड रियर की वजह से फोन किनारों पर खासा पतला मालूम पड़ती है। इसके साथ ही वनप्लस 3 पकड़ने में भी सुविधाजनक है। ध्यान देने वाली बात है, प्राइमरी कैमरा काफी बाहर की तरफ है और अगर आप फोन को बिना प्रोटेक्टिव केस के इस्तेमाल करते हैं तो इसे नुकसान पहुंच सकता है। यूज़र को पांच प्लास्टिक केस विकल्प मिलते हैं जिन्हें आप फोन के साथ अलग-अलग लुक और फिनिश के लिख खरीद सकते हैं। कार्बन, बैंबू, एप्रिकॉट, रोज़वुड और सैंडस्टोन पांच प्लास्टिक केस विकल्पल हैँ। केस पर की गई टेक्सचरिंग खासी खूबसूरत है और बिना केस के भी फोन काफी खूबसूरत दिखता है।
 

वनप्लस 3 में पिछले फोन की तरह ही 1080×1920 पिक्सल रिजॉल्यूशन का 5.5 इंच स्क्रीन है और इसकी डेनसिटी 401 पीपीआई है। हालांकि, वनप्लस ने इस बार एमोलेड स्क्रीन का इस्तेमाल किया है। वनप्लस एक्स में भी एमोलेड स्क्रीन दिया गया था। सूरज की रोशनी में फोन को पढ़ने योग्य बनाने के लिए एक पोलराइजिंग लेयर है। हालांकि यह इन दिनों कई फ्लैगशिप स्मार्टफोन में आ रहे 1440×2560 पिक्सल जितना क्रिस्प नहीं है लेकिन यह काफी शार्प है और इससे शानदार पिक्चर क्वालिटी मिलती है।

स्पेसिफिकेशन
क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 820 प्रोसेसर आखिरकार धीरे-धीरे सुर्खियों में आ रहा है और अब भारत में इस प्रोसेसर के साथ कई डिवाइस उपलब्ध हैं। एलजी जी5 (रिव्यू) को छोड़ दें, तो इस प्रोसेसर के साथ आने वाले सभी मॉडल की कीमत 30,000 रुपये के अंदर ही है। हाल ही में 22,999 रुपये में लॉन्च हुआ एलईईको एलई मैक्स 2 भी इसी लिस्ट में शामिल है। ना केवल वनप्लस 3 में इस दमदार प्रोसेसर का इस्तेमाल किया गया है बल्कि इसमें 6 जीबी का एलपीडीडीआर4 रैम और 64 जीबी नॉन-एक्सपेंडेबल इंटरनल स्टोरेज मौजूद है।
 

इसके अलावा फोन एफडीडी बैंड 3 और टीडीडी बैंड 40 के लिए दोनों सिम पर 4जी कनेक्टविटी सपोर्ट करता है। वनप्लस 3 में वाई-फाई ए/बी/जी/एन/एसी, ब्लूटूथ 4.2 और एनएफसी जैसे फीचर मौजूद हैं। फोन में पावर देने के लिए 3000 एमएएच की नॉन-रिमूवेबल बैटरी दी गई है और किसी तरह की फास्ट चार्जिंग टेक्नोलॉजी के साथ आने वाला यह कंपनी का पहला डिवाइस है। यह फोन 20 वाट के डैश चार्जर के साथ आता है जिससे फोन 30 मिनट में ही 60 प्रतिशत तक चार्ज हो जाता है। एक घंटे की चार्जिंग में ही फोन पूरी तरह चार्ज हो जाता है।

फोन में चार्जिंग और कनेक्टिविटी यूएसबी 2.0 टाइप-सी पोर्ट के जरिए होती है और फोन के साथ आने वाली केबल से कम्प्यूटर व चार्जर को कनेक्ट किया जा सकता है।
 

खास बात है कि वनप्लस विशेष तौर पर कार के लिए बनाए गए डैश चार्जर को भी बेचेगी जो एक स्टैंडर्ड 12वाट कार शॉकेट में लगाया जा सकता है। हमने इस चार्जर को फोन के साथ कनेक्ट किया, हालांकि इससे होने वाली चार्जिंग एक वॉल-शॉकेट चार्जर जितनी तेज नहीं थी लेकिन अगर आप अधिकतर समय यात्रा करते हैं तो आपके लिए यह एक काम की एक्सेसरी हो सकती है।
 

सॉफ्टवेयर
बात करें वनप्लस 3 के सॉफ्टेवेयर की तो वनप्लस 3 एंड्रॉयड 6.0.1 पर आधारित ऑक्सीजनओएस 3.1.1 पर चलता है। ऑक्सीजनओएस काफी हद तक स्टॉक एंड्रॉयड मार्शमैलो की तरह काम करता है। इसमें कुछ यूज़फुल नए फीचर भी हैं। ऑक्सीजनओएस से फोन में कई तरह के कस्टमाइज़्ड विकल्प मिलते हैं जबकि मार्शमैलो के अधिरतर फीचर को भी फोन में मेंटेन किया गयाहै। इनमें नए रंगरूप वाला एप परिमिशन सिस्टम, नाउ ऑन टैप, और डोज़ मोड शामिल है। ऑक्सीजनओएस से बूटलोडर को फटाफट अनलॉक किया जा सकता है।
 

वनप्लस 3 का एक सबसे अहम फीचर है शेल्फ, जिसे होम स्क्रीन पर दायीं तरफ स्वाइप करने पर एक्सेस किया जा सकता है। इससे आप मौसम के बारे में जानकारी, अधिकतर इस्तेमाल किए जाने वाले ऐप, विजट, और कॉन्टेक्ट्स को क्विक एक्सेस कर सकते हैँ। सेटिंग मेन्यू में जाकर एडेप्टिव ब्राइटनेस, कलर टेम्परेचर सेटिंग, एम्बिएंट डिस्प्ले मोड जैसे दूसरे विकल्प एक्सेस किए जा सकते हैं। एम्बिएंट डिस्प्ले प्रॉक्सिमिटी सेंसर का इस्तेमाल कर बिना फोन को एक्सेस किए आपको बेसिक जानकारी दे सकता है। इसके अलावा आप स्विफ्टकी का इस्तेमाल कर डीफॉल्ट कीबोर्ड भी विकल्प चुन सकते हैं।

इसके अलावा कुछ दूसरे कस्टमाइज़ेशन विकल्प में फोन को एक्टिवेट करने के लिए एक ‘डार्क मोड’ भी है जिससे मेन्यू के कलर को डार्क शेड में बदला जा सकता है, अलग-अलग फंक्शन के लिए एलईडी नोटिफिकेशन लाइट कलर को कस्टम किया जा सकता है।
 

कैमरा
वनप्लस 3 का प्राइमरी कैमरा सोनी आईएमएक्स 298 सेंसर के साथ 16 मेगापिक्सल का है जबकि 1.4 माइक्रॉन पिक्सल के साथ 8 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा है। रियर कैमरे से 4के वीडियो रिकॉर्ड की जी सकती है और स्लो मोशन वीडियो को 120 फ्रेम प्रति सेकेंड पर रिकॉर्ड किया जा सकता है। जबकि फ्रंट कैमरे से स्लो मोशन वीडियो को 1080 पिक्सल के साथ 30 फ्रेम प्रति सेकेंड पर रिकॉर्ड किया जा सकता है। इसके अलावा, रियर कैमरे में ऑप्टिकल इमेज़ स्टेबिलाइज़ेशन, फेज़ डिटेक्शन ऑटोफोकस और रॉ इमेज़ फॉरमेट सपोर्ट भी मौजूद है।

कैमरा ऐप गूगल का स्टॉक ऐप है जो आप नेक्सस डिवाइस में देखत हैं। इस ऐप को सामान्य तरीके से डिजाइन किया गया है और व्यूफाइंडर के लिए अधिकतर स्क्रीन स्पेस को घेर लेता है। इसी वजह से तस्वीरें लेने के लिए एक सिंगल शटर बटन है और वीडियो रिकॉर्डिंग एक टू-स्टेप प्रक्रिया है। सबसे ऊपर बायें कोने में एक छोटे टॉगल से ही टाइम लैप्स, स्लो मोशन, वीडियो, मैनुअल और पैनोरमा जैसे मोड एक्सेस किए जा सकते हैं।
 

तस्वीरें लेते समय, आप सेल्फ टाइमर को टॉगल भी कर सकते हैं। इसके अलावा फ्लैश, एचडी शूटिंग, एचडीआर मोड और कैमरा स्विचर के लिए भी कंट्रोल विकल्प हैं। कैमरा ऐप को इस्तेमाल करना खासा आसान है लेकिन हमने दूसरे डिवाइस में ज्यादा कंट्रोल के साथ इसेस बेहतर ऐप देखे हैं।

अच्छी रोशनी में आउटडोर में शूटिंग करते समय फोन से डिटेलिंग के साथ शार्प तस्वीरें मिलती हैं लेकिन तस्वीरें थोड़ी सी बिखरी हुईं लगती हैं। कलर खासे वाइब्रेंट आते हैं और तस्वीरें भी ब्राइट और अच्छी लगती हैं। कभी-कभी ऑटोफोकस खासा धीमा लगता है लेकिन एक बार किसी सब्जेक्ट या सीन को लॉक करने पर तस्वीरें अच्छी आती हैं। ऑप्टिकल और इलेक्ट्रॉनिक इमेज़ स्टेबिलाइज़ेशन दोनों ही अच्छी क्वालिटी की तस्वीरें और वीडियो कैद करने में मदद करते हैं। लेकिन कम रोशनी में कैमरे से ली जाने वाली तस्वीरें ओवरसैचुरेट हो जाती है और बिखर जाती हैं।
 

फोन से फुल-एचडी रिज़ॉल्यूशन पर भी डिटेलिंग के साथ शानदार वीडियो बनाई जा सकती है। और बेहतर शार्पनेस के लिए आपके पास 4के वीडियो रिकॉर्डिंग का विकल्प हमेशा मौजूद रहता है। स्लो मोशन और टाइम लैप्स मोड से अच्छे परिणाम मिलते हैं। फ्रंट कैमरे से खासी शार्प तस्वीरें ली जा सकी हैं और दूसरे टिपिकल स्मार्टफोन की तुलना में इससे काफी बेहतर तस्वीरें आती हैं। कुल मिलाकर कहें तो वनप्लस 3 का कैमरा एक साधारण स्मार्टफोन शूटिंग से कहीं बेहतर परिणाम देता है।
 

परफॉर्मेंस
अभी तक हमारे द्वारा स्नैपड्रैगन 820 प्रोसेसर से लैसे रिव्यू किए गए स्मार्टफोन में वनप्लस 3 एक पावरहाउस साबित होता है। गेम खेलने से लेकर वेब पेज लोड होने तक, ऐप खोलने से लेकर तस्वीरें लेने तक, सब कुछ बेहद अच्छे से काम करता है। 6 जीबी रैम के साथ फोन की परफॉर्मेंस शानदार रहती है। फोन में हीट और किसी तरह ही परफॉर्मेंस को लेकर कोई परेशानी नहीं होती है और भारी भरकम काम करते समय भी फोन अच्छे से काम करता है।

बात करें बेंचमार्क आंकड़ों की तो, वनप्लस 3 ने अपनी जबरदस्त परफॉर्मेंस से कुछ रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। हमारे द्वारा अब तक इस्तेमाल किए सबसे पावरफुल एंड्रॉयड स्मार्टफोन में वनप्लस 3 सबसे बेहतर फोन है।
 

सेल्युलर नेटवर्क पर फोन ने अच्छे से काम किया। फोन 4जी और वाई-फाई कनेक्टिविटी पर हमेशा बेहतर काम करता है। वनप्लस 3 से बेहतर किस्म की कॉल क्वालिटी मिलती है और डिवाइस के डुअल माइक्रोफोन सेटअप से वॉयस ट्रांसमिशन भी अच्छा रहता है। हमारे वीडियो लूप टेस्ट में फोन की बैटरी 16 घंटे. 45 मिनट तक चली। लगातार 4 जी नेटवर्क और गंभीर काम करते समय भी यह फोन एक दिन तक आसानी से बिना चार्ज किए चल जाता है।
 

हमारा फैसला
पिछले तीन स्मार्टफोन के बाद, वनप्लस आखिरकार वनप्लस 3 को एक जबरदस्त फोन बनाने में कामयाब रही है। फोन में हर डिपार्टमेंट में अच्छा काम किया गया है और वनप्लस ने पिछले डिवाइस में दिखी हर तरह की परेशानी को इस फोन में खत्म कर दिया है। फोन में जरूरी फीचर जैसे एनएफसी, सटीक फिंगप्रिंट सेंसर, शानदार एमोलेड स्क्रीन और फास्ट चार्जिंग जैसे विकल्प हैं जिससे यह फोन हर जगह उम्मीदों पर खरा उतरता है।

लेकिन, वनप्लस 3 पूरी तरह से परफेक्ट नहीं है। 64 जीबी की इंटरनल स्टोरेज हालांकि पर्याप्त है लेकिन कुछ लोगों को फोन में एक्सपेंडेबल स्टोरेज का ना होना एक समस्या लग सकती है। सिंगल स्पीकर थोड़ा कमजोर है और फओन में हमें कुछ फाइल फॉरमेट रिकग्निशन इश्यू देखने को मिले जिससे हम कुछ वीडियो व ऑडियो फाइल नहीं प्ले कर सके। फोन से कम रोशनी में ली गई तस्वीरें हमारी उम्मीद के मुताबिक नहीं रहीं। लेकिन इन सब छोटी खामियों को छोड़ दें तो वनप्लस 3 एक बेहतरीन स्मार्टफोन है। 27,999 रुपये में इन फीचर और क्षमता के साथ आने वाला यह फोन एक ‘फ्लैगशिप किलर’ साबित हो सकता है।


Source link

Total Page Visits: 20 - Today Page Visits: 1