Micromax Bharat-1 First Impressions, माइक्रोमैक्स भारत-1 पहली नज़र में…

हैंडसेट निर्माता कंपनियों ने अब तक देश के हर नागरिक तक सस्ते स्मार्टफोन पहुंचाने के लिए जमकर माथापच्ची की है। लेकिन रिलायंस जियो के जियो फोन ने पूरे गेम को ही बदल डाला। एक बार फिर फीचर फोन चर्चा में हैं। इसमें कुछ भी चौंकाने वाली नहीं है कि अब दूसरी कंपनियां भी फीचर फोन के साथ प्रयोग कर रही हैं। ताज़ा उदाहरण BSNL और Micromax की साझेदारी का है। दोनों ने मिलकर नया 4जी फीचर फोन Bharat-1 पेश किया है जिससे तेज़ इंटरनेट को भी एक्सेस किया जा सकता है।

BSNL Micromax Bharat-1 में कुछ भी नया नहीं है। इसके बारे में हम बाद में विस्तार से चर्चा करेंगे। सबसे अहम सवाल यह है कि फोन आउट ऑफ बॉक्स किस किस्म के फायदे के साथ आता है? इसकी कीमत 2,200 रुपये है और बिक्री 20 अक्टूबर से शुरू होगी। इसकी मार्केटिंग में कंपनी कह रही है कि यह करीब 50 करोड़ भारतीयों की ज़रूरतों को पूरा करेगा।
 

किफायती कनेक्टिविटी की ज़रूरत

बीएसएनएल माइक्रोमैक्स भारत-1 फोन किन ज़रूरतों को पूरा कर सकता है? आइए इस बारे में जानते हैं। माइक्रोमैक्स के राहुल शर्मा का मानना है कि लोग सिर्फ वॉयस कॉल के लिए भुगतान नहीं करना चाहते। अब यूज़र बिना चार्ज दिए वेब ब्राउज़ भी करना पसंद करते हैं। इसके लिए उनकी कंपनी ने सरकारी टेलीकॉम कंपनी बीएसएनएल के साथ साझेदारी की है। मात्र 97 रुपये के मासिक प्लान में ग्राहक भारत-1 के साथ ये सारी सुविधाएं पाएंगे।

सच कहें तो लोग कभी-कभार गाने सुनना, वीडियो देखना और लाइव टीवी स्ट्रीम करना भी पसंद करते हैं। इन ज़रूरतों का क्या? Micromax का कहना है कि उसने इसके लिए ज़ेंगा जैसी कंपनियों के साथ साझेदारी की है जो फोन में इस तरह के कंटेंट मुहैया कराएंगी।
 

micromax

अब सवाल यह है कि बीएसएनएल माइक्रोमैक्स भारत-1 हमारी उम्मीदों पर खरा उतरता है? सीधा और छोटा जवाब होगा, हां। अगल लंबा जवाब चाहिए तो ज़्यादातर मौकों पर हां। हमने इस हैंडसेट के साथ कुछ वक्त बिताया। पहली नज़र में हमें यह फोन कैसा लगा? आइए बताते हैं…

पहली नज़र में Micromax Bharat-1 आपको पुराने जमाने वाले फीचर फोन की याद दिलाएगा। इसमें वही पुराना क्लासिक न्यूमरिक कीपैड है। आप जब भी इन्हें क्लिक करते हैं, कानों में चुभने वाली आवाज़ आती है।

आपको उन्हें बार-बार क्लिक करने की ज़रूरत पड़ेगी, क्योंकि 2.4 इंच वाला स्क्रीन टच सपोर्ट के साथ नहीं आता। प्लास्टिक बॉडी प्रीमियम होने का एहसास नहीं देती। हालांकि, यह बहुत सस्ता भी नहीं लगता। लेकिन आप जैसे ही * बटन को लंबे समय तक दबाकर रिलीज करते हैं, चीजें मज़ेदार हो जाती हैं।

कई ऐप हैं जो माइक्रोमैक्स भारत-1 में पहले से इंस्टॉल हैं। वेब ब्राउज़िंग के लिए ओेपेरा मिनी मोबाइल ब्राउज़र दिया गया है। हमने कुछ वेबपेज के एड्रेस टाइप किए और ये ठीक-ठाक लोड हुए। आपको एक यूट्यूब ऐप भी मिलता है। ग्राहकों द्वारा हैंडसेट के लिए अदा की जा रही कीमत को देखते हुए डिस्प्ले और आवाज़ की क्वालिटी को ठीक-ठाक माना जाएगा।

भारत-1 एंड्रॉयड पर नहीं चलता है। इसलिए फोन में कोई गूगल प्ले स्टोर नहीं है। अगर आप व्हाट्सऐप डाउनलोड करने के बारे में सोच रहे हैं तो यह जानकारी आपके लिए बेहद ही अहम है। आप ओपेरा मिनी ब्राउज़र के ज़रिए फेसबुक स्टेटस अपडेट, विकीपीडिया सर्च और खबरें पढ़ने जैसे काम कर पाएंगे।

इस फोन में भी दो कैमरा सेंसर दिए गए हैं। रियर कैमरे का सेंसर 2 मेगापिक्सल का है। फ्रंट में एक वीजीए कैमरा है। आप इनसे उम्मीदों के मुताबिक ही तस्वीरों ले पाएंगे। सच कहें तो आप इनसे तब तक तस्वीरें नहीं लेना चाहोगे जब तक आपके पास दूसरा फोन ना हो। इसकी तुलना में जियो फोन बेहतर तस्वीरें लेता है।
 

micromax

फोन में एक इंटरटेनमेंट “Fun” ऐप भी है जहां पर आपको गाने और वीडियो का एक्सेस मिलेगा। इस ऐप के ज़रिए 100 से ज़्यादा लाइव टीवी को भी देखा जा सकता है। सीमित समय होने के कारण हम चैनलों की संख्या को ठीक से जांच नहीं सके। दूसरी तरफ, फोन पर वीडियो अच्छे चले। बीएसएनएल फोन ब्लूटूथ को भी सपोर्ट करता है। इसकी मदद से यूज़र तेजी से फाइल साझा कर सकते हैं।

भारत-1 में वाई-फाई के लिए सपोर्ट है। इसकी मदद से ही हमारा टेस्ट यूनिट इंटरनेट से जुड़ा था। सेटिंग्स में जाकर हम यह भी जान पाए कि फोन वाई-फाई हॉटस्पॉट का भी काम करेगा। हम इस फीचर की टेस्टिंग नहीं कर सके, क्योंकि टेस्ट डिवाइस में कोई सिम कार्ड नहीं था। हम इससे वॉयस कॉल भी नहीं कर सके।

सिम की बात उठी है तो बता दें कि यह दो सिम कार्ड स्लॉट के साथ आएगा। माइक्रोमैक्स के एक प्रतिनिधि ने हमें बताया कि यूज़र चाहें तो बीएसएनएल की जगह किसी और कंपनी का सिम कार्ड भी इस्तेमाल कर सकते हैं। जियो फोन में आप ऐसा नहीं कर सकते और यह एक सिम कार्ड स्लॉट के साथ आता है। अगर आप भारत-1 हैंडसेट खरीदने के बारे में सोच रहे हैं तो आप बीएसएनएल की जगह एयरटेल या रिलायंस जियो का सिम भी इस्तेमाल में ला सकते हैं।

माइक्रोमैक्स ने इस फोन को ‘इंडिया का 4जी फोन’ का तमगा दिया है। लेकिन सच यह भी है कि बीएसएनएल अभी 4जी नेटवर्क नहीं देती है। अगर आप 4जी स्पीड में वेब ब्राउज़िंग की चाहत रखते हैं तो आपको एयरटेल, वोडाफोन, आइडिया या रिलायंस जियो का सिम इस्तेमाल करना होगा।
 

micromax

जियो फोन के इस प्रतिद्वंद्वी हैंडसेट में 2000 एमएएच की बैटरी है। फीचर फोन को देखते हुए यह काफी बड़ी बैटरी है। हमारे हिसाब से आम इस्तेमाल में बैटरी आसानी से दो दिन तक चल जाएगी। टेस्टिंग के दौरान हमने बैटरी लाइफ पर कोई खास असकर पड़ता नहीं देखा।
 

क्या आपको भारत-1 फोन खरीदना चाहिए?

यह आप पर ही निर्भर करेगा। अगर आपके पास स्मार्टफोन है तो आप भारत-1 हैंडसेट नहीं खरीदना चाहेंगे। आप पाएंगे कि इसका कैमरा अच्छी तस्वीरें नहीं लेता और फोन का डिस्प्ले आपकी आंखों को शायद ही भाए। फोन बहुत छोटा है और कीपैड के कारण आपका अनुभव खराब हो सकता है। लेकिन यह भी साफ है कि माइक्रोमैक्स ने इस फोन को स्मार्टफोन यूज़र के लिए तो नहीं बनाया।

भारत-1 उन 50 करोड़ भारतीयों के लिए बनाया गया है जो स्मार्टफोन नहीं खरीद सकते, या फिर डेटा प्लान बहुत ज़्यादा महंगा होता है। फोन को बूढों, बच्चों और उन लोगों के लिए पेश किया गया है जिन्हें अब तक स्मार्टफोन इस्तेमाल करने का मौका नहीं मिला। ऐसे लोगों के लिए माइक्रोमैक्स भारत-1 फायदे का सौदा होगा, बीएसएनएल की 3जी स्पीड में भी।


Source link

Total Page Visits: 16 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply