माइक्रोमैक्स कैनवस 6 का रिव्यू

हाल ही में हमने माइक्रोमैक्स कैनवस 6 प्रो का रिव्यू किया था और अब समय है माइक्रोमैक्स कैनवस 6 के रिव्यू का। इस स्मार्टफोन की कीमत लगभग कैनवस प्रो जितनी ही है। कंपनी का लक्ष्य इन दोनों स्मार्टफोन से दो अलग-अलग यूजर को आकर्षित करने का है।

नए माइक्रोमैक्स कैनवस 6 के स्पेसिफिकेशन कैनवस 6 प्रो जैसे ही हैं लेकिन यह डिजाइन, लुक और दूसरे फीचर में पूरी तरह से अलग है। इसलिए नाम के मुताबिक यह फोन बिल्कुल भी कैनवस प्रो जैसा नहीं है। लेकिन क्या इस फोन में वो सब कुछ है जो माइक्रोमैक्स के सुनहरे दिनों को वापस ला सकता है? हमारे विस्तृत रिव्यू में जानें इस स्मार्टफोन की खूबियां और कमियां।  

लुक और डिजाइन
माइक्रोमैक्स कैनवस 6 की सबसे बड़ी खासियत इसकी मेटल बॉडी है जो शैंपेन गोल्ड में खासतौर पर बेहद सुंदर दिखती है। फोन की बनावट और फिनिश बहुत अच्छी है और इसके चैम्फर्ड किनारे इसे क्लासी बनाते हैं। फोन का डिजाइन बहुत ज्यादा अपने आप में खास नहीं है और कोई भी इसे आसानी से जियोनी या हॉनर स्मार्टफोन समझने की भूल कर सकता है अगर इसके रियर पर लोगो ना दिया हो।
 

किनारों के साथ फोन पर शार्प लाइन दी गई हैं। फोन पकड़ने में सुविधाजनक है लेकिन मेटल बॉडी इसे थोड़ा भारी बनाते हैं। अच्छी ग्रिप के लिए फोन के किनारे खासे मोटे है लेकिन इसके चिकने टेक्सचर से फोन के हाथ से फिसलने का डर रहता है। फोन का पिछला हिस्सा होल है इसलिए हाथ में पकड़ने पर फोन किसी ब्लॉक की तरह अहसास नहीं देता।

स्मार्टफोन में दिया गया 5.5 इंच आईपीएस डिस्प्ले फुल-एचडी रिजॉल्यूशन का है जिसका मतलब है कि तस्वीरें शार्प दिखती हैं। सूरज की रोशनी में भी फोन को आसानी से पढ़ा जा सकता है। प्रोटेक्शन के लिए गोरिल्ला ग्लास नहीं है जो शायद मेटल बॉडी के महंगे होने के कारण हटाया गया है। ऊपर की तरफ 8 मेगापिक्सस के फ्रंट कैमरे के साथ में नोटिफिकेशन एलईडी नहीं है।
 

फोन में हाइब्रिड सिम ट्रे बायीं तरफ है जिसका मतलब है एक बार में या तो दो नैनो-सिम या फिर एक सिंगल सिम और एक माइक्रोएसडी कार्ड का इस्तेमाल किया जा सकता है। दायीं तरफ वॉल्यूम और पॉवर बटन हैं जो आसानी से ऑपरेट किए जा सकते हैं। नीचे की तरफ माइक्रो-यूएसबी पोर्ट और स्पीकर ग्रिल है जबकि ऊपर की तरफ हेडफोन शॉकेट दिया गया है।

रियर पर, एलईडी फ्लैश और फिंगरप्रिंट सेंसर के साथ 13 मेगापिक्सल का कैमरा दिया गया है। सेंसर बहुत तेजी से फिंगरप्रिंट की पहचान नहीं करता लेकिन ठीकठाक काम करता है। हमें फिंगरप्रिंट सेंसर के इस्तेमाल में थोड़ी परेशानी हुई लेकिन कोई बड़ी दिक्कत सामने नहीं आई।
 

माइक्रोमैक्स कैनवस 6 खरीदने पर आपको 7.5 वॉट का एक चार्जर, डाटा केबल, स्क्रीन गार्ड, सिम ट्रे इजेक्टर टूल और एक इन-ईयर हेडसेट मिलेगा। कुल मिलाकर, कैनवस 6 देखने में अच्छा है और आज के स्मार्टफोन को टक्कर देने में कामयाब है। माइक्रोमैक्स का इस स्मार्टफोन में गोरिल्ला ग्लास जैसे जरूरी फीचर का ना देना निश्चित तौर पर निराश करता है।

स्पेसिफिकेशन और सॉफ्टवेयर
चूंकि कैनवस 6 को लाइफस्टाइल को ध्यान में रखकर बनाया गया है इसलिए इसके स्पेसिफिकेशन पर बहुत ज्यादा ध्यान नहीं दिया गया है। माइक्रोमैक्स के इस स्मार्टफोन में मीडियाटेक (एमटी6753टी) ऑक्टा-कोर प्रोसेसर और 3 जीबी रैम है। फोन में इनबिल्ट स्टोरेज 32 जीबी है जिसे माइक्रोएसडी कार्ड के जरिए 128 जीबी तक बढ़ाया जा सकता है। कनेक्टिविटी के लिए फोन में ब्लूटूथ 4.0, वाई-फाई बी/जी/एन, यूएसबी ओटीजी, जीपीएस, एफएम रेडियो और दोनों सिम पर 4जी एलटीई जैसे स्टैंडर्ड फीचर मौजूद हैं।
 

बात करें सॉफ्टवेयर की तो फोन में कस्टम आइकन पैक और दूसरे फीचर के साथ एंड्रॉयड लीलपॉप का क्लोज-टू-स्टॉक वर्जन दिया गया है। होम स्क्रीन पर दायीं तरफ स्वाइप करने पर यूजर माइक्रोमैक्स के अराउंड सर्विस पर चला जाता है जिससे उन सर्विस को एक्सेस किया जा सकता है जिनकी माइक्रोमैक्स के साथ साझेदारी है। इनमें खाना ऑर्डर करना, कैब बुकिंग, फ्लाइट बुकिंग और मोबाइल, डेटा व डीटीएच जैसी सर्विस शामिल हैं। इसके अलावा माइक्रोमैक्स कैनवस 6 में यूजर को माइक्रोमैक्स का क्लाउड बैकअप फीचर भी दिया गया है जिससे यूजर अपने कॉन्टैक्ट, कॉल लॉग्स, एसएमएस और दूसरे डेटा का क्लाउड पर बैकअप बना सकते हैं। इसके अलावा कई मुफ्त ऐप और गेम्स भी मिलते हैं जिनकी जानकारी हमने कैनवस 6 प्रो के रिव्यू में दी थी।

परफॉर्मेंस
फोन के पूरे साइज़ को देखकर कहा जा सकता है कि फोन को इस्तेमल करना सुविधाजनक तो है लेकिन इसके शार्प किनारे एक निश्चित समय के बाद हुत सुखद अहसास नहीं देते हैं। मेटल बॉडी के अलावा हमें फोन में कोई ओवरहीटिंग की समस्या देखने को नहीं मिली। चार्जंग और लंबे समय तक गेम खेलने के दौरान फोन उम्मीद के मुताबिक गर्म भी होता है।

फोन की ऐप परफॉर्मेंस ठीकठाक है। बेंचमार्किंग टेस्ट में हमें कैनवस 6 के लिए कैनवस 6 प्रो से ज्यादा बेहतर आंकड़े मिले।
 

लोकल म्यूजिक फाइल की स्ट्रीमिंग और प्ले करने के लिए इस फोन में गाना ऐप दिया गया है। मोनो स्पीकर से अच्छी ऑडियो क्वालिटी मिलती है और साथ आने वाले हेडसेट से साउंड क्वालिटी ठीकठाक आती है। वीडियो प्लेयर से फुल-एचडी वीडियो प्ले किए जा सकते हैं। प्लेयर में ही वीडियो को लूप या ट्रिम भी किया जा सकता है।
 

बात करें कैमरे की तो पीडीएएफ (फेज डिटेक्शन ऑटोफोकस) और फोकस स्पीड खासी शानदार है। हालांकि, कैमरे में शटर समस्या होती है जोकि कम रोशनी में ज्यादा खराब हो जाती है। लैंडस्कैप तस्वीरों में डिटेलिंग खराब नहीं है लेकिन तस्वीरें दिन की रोशनी में भी भद्दी मालूम पड़ती हैं। एचडीआर मोड इस समस्या को काफी हद तक हल करता है और तस्वीरों को कुछ शार्प भी बनाता है। मैक्रो तस्वीरें अच्छी डिटेलिंग के साथ आती हैं। कम रोशनी में तस्वीरें औसत से कम क्वालिटी वाली होती हैं।
 

फ्रंट कैमरे से ठीकठाक सेल्फी ली जा सकती है। कैमरा ऐप माइक्रोमैक्स के दूसरे बजट स्मार्टफोन से बहुत ज्यादा अलग नहीं है। बायीं तरफ ऐप में शूटिंग मोड दिए गए हैं जिनमें फेस ब्यूटी, पैनोरमा, मल्टी-एंगल व्यू, मोशन ट्रैक और लाइव फोटो जैसे फीचर हैं। ऊपर दिए गए शॉर्टकट से एचडीआर, स्माइल शटर और फ्लैश के बीच टॉगल किया जा सकता है। ऊपर की तरफ स्वाइप करने से बहुत सारे दूसरे फिल्टर का इस्तेमाल कर सकते हैं।

कैमरा और वीडियो सेटिंग में फेस डिटेक्शन, वॉइस कैप्चर, एंटी शेक, जीरो शटर डिले, ईआईएस (स्टेबिलाइजेशन) जैसे फीचर ट्वीक किये जा सकते हैं। इसके अलावा एक्सपोजर और व्हाइट बैलेंस को मैनुअली सैट किया जा सकता है लेकिन इसमें ‘प्रो’ मोड नहीं है। 1080 पिक्सल तक की वीडियो रिकॉर्ड की जा सकती है लेकिन क्वालिटी ठीक-ठाक है।

बैटरी लाइफ
माइक्रोमैक्स कैनवस 6 में दी गई 3000 एमएएच की बैटरी हमारे वीडियो लूप टेस्ट में 8 घंटे और 37 मिनट तक चली। वहीं सामान्य इस्तेमाल के दौरान हम फोन को एक बार फुल चार्ज करने पर एक दिन से ज्यादा तक चला पाए।
 

हमारा फैसला
एक कीमत में दो स्मार्टफोन पेश कर अलग-अलग क्षेत्र के यूजर को आकर्षित करने की माइक्रोमैक्स की नीति समझ में आती है। लेकिन, कंपनी इस नीति को ठीक से लागू नहीं कर पाई है। दोनों फोन को देखने के बाद यूजर निश्चत तौर पर कैनवस 6 का ही चुनाव करेगा। अगर माइक्रोमैक्स ने प्रो वेरिएंट में बेहतर सीपीयू और कैमरा दिया होता तो दोनों फोन में से एक के चुनाव में कठिनाई हो सकती थी। फिलहाल, कैनवस 6 एक बेहतर विकल्प है। इस फोन में बेहतर बनावट (मेटल बॉडी), फिगंरप्रिंट सेंसर, डबल ऑनबोर्ड स्टोरेज और बेहतर बैटरी लाइफ है।

माइक्रोमैक्स इस फोन को और ज्यादा बेहतर बना सकती थी। हमें समझ नहीं आया कि कंपनी ने इस फोन में गोरिल्ला ग्लास क्यों नहीं दिया। आजकल फोन खरीदते समय लोग इस फीचर की सबसे ज्यादा मां ग करते हैं। इसके अलावा कैमरा भी बेहतर हो सकता था। वीओएलटीई सपोर्ट या तेज वाई-फाई भी दिया जा सकता था।


Source link

Total Page Visits: 19 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply