कूलपैड मेगा 2.5डी का रिव्यू

15,000 रुपये से कम कैटेगरी वाले स्मार्टफोन के बीच जहां लड़ाई तेज होती जा रही है। वहीं ब्रांड अब 10,000 रुपये से कम कैटेगरी में ही स्मार्टफोन पेश कर रहे हैं। शाओमी ने हाल ही में रेडमी 3एस और रेडमी 3एस प्राइम  (रिव्यू) लॉन्च कर इस लड़ाई को और तेज कर दिया है। कीमत के हिसाब से ये दोनों स्मार्टफोन बेहद शानदार हैं।  

एक दूसरी चीनी कंपनी कूलपैड भी बजट सेगमेंट में रेस के लिए जानी जाती है। अब कंपनी ने मेगा 2.5डी लॉन्च कर शाओमी के नए ऑफर को चुनौती देने की कोशिश की है। फिलहाल यह फोन सिर्फ फ्लैश सेल के जरिए ही उपलब्ध है। 2.5डी एक सेल्फी फोकस स्मार्टफोन है जिसमें डिज़ाइन पर खास ध्यान दिया गया है। रेडमी 3एस के लिए यह बड़ा प्रतिद्वंदी लगता हा लेकिन हमें लगता है कि मेगा 2.5डी उन लोगों के लिए एक बड़ा अल्टरनेटिव है जो इस सेगमेंट में एक बड़ा डिस्प्ले वाला फोन चाहते हैं।

लेकिन क्या यह एक अच्छा फोन है? क्या कूलपैड का यह नया स्मार्टफोन ग्राहकों को अपनी ओर आकर्षित कर सकता है? आज हम करेंगे इस फोन का रिव्यू करने का।

डिज़ाइन और बनावट
मेगा 2.5डी निश्चित तौर पर शानदार लुक वाला स्मार्टफोन है। और गोल्ड कलर वेरिएंट में यह आकर्षक लगता है। हम देख सकते हैं कि कूलपैड ने इस फोन की बनावट पर खासा ध्यान दिया है। 2.5डी जैसा कि नाम से ज़ाहिर होता है इसमें डिस्प्ले के ऊपर कर्व्ड डिस्प्ले दिया गया है। डिस्प्ले के किनारों पर ब्लैक बेज़ेल दिए गए हैं जिससे स्क्रीन के ऑफ होने पर इसके एज़-टू-एज़ पैनल होने का भ्रम होता है।
 

फोन में 5.5 इंच डिस्प्ले है जो एचडी रिज़ॉल्यूशन के साथ आता है। इस सेगमेंट में यह स्क्रीन खासा आम है। हालांकि, डिस्प्ले के साइज़ के हिसाब से पिक्सल डेनसिटी कम है जिससे टेक्स्ट के आसपास धुंधलापन महसूस होत है। यह बहुत ज्यादा बेहतर नहीं है लेकिन ठीक है। ऊपर की तरफ एक नोटिफिकेशन एलईडी है और ऑनस्क्रीन नेविगेशन बटन है।
 

कूलपैड मेगा 2.5डी आसानी से इस्तेमाल नहीं किया जा सकता क्योंकि इसे एक हाथ से इस्तेमाल करना असंभव है। अच्छी बात है कि, यह बहुत ज्यादा भारी ना होकर सिर्फ 143 ग्राम है। फोन काफी पतला भी है। इस फोन में मेटल फ्रेम है लेकिन इसका रियर प्लास्टिक का बना है। स्क्रीन के अलावा, पूरे फोन में उंगलियों के निशान नहीं पड़ते जिससे इसे साफ करना आसान है। बटन ठीक तरह से रिस्पॉंस करते हैं।
 

फोन में दायीं तरफ एक हाइब्रिड सिम ट्रे दी गई है जबकि हेडफोन और माइक्रो-यूएसबी पोर्ट क्रमशः ऊपर व नीचे की तरफ दिए गए हैं। फोन का पिछला हिस्सा थोड़ा सा कर्व है जिससे यह हाथ में थोड़ा सुविधाजनक महसूस होता है। रियर पर ऊपर की तरफ एक कैमरा मॉड्यूल और नीचे की तरफ एक स्पीकर है। गोल रियर होने से दिक्कत यह होती है कि यह स्पीकर को पूरी तरह से बंद कर देता है जब इसे एक फ्लैट सतह पर रखा जाता है।
 

फोन खरीदने पर बॉक्स में एक 7.5 वाट पावर एडेप्टर, डाटा केबल व एक हेडसेट मिलेगा। फोव देखने में खूबसूरत है और इसे अच्छे से बनाया गया है। फोन में कोई फिंगरप्रिंट सेंसर नहीं है लेकिन इस कीमत पर इसका ना होना चलता है।

स्पेसिफिकेशन व सॉफ्टवेयर
कूलपैड मेगा 2.5डी में एक मीडियाटेक एमटी6735पी क्वाड-कोर प्रोसेसर है जिसे इनदिनों इस कीमत में सबसे बेहतर चुनाव नहीं कहा जा सकता। क्वालकॉम का कोई दूसरा बजट चिपसेट (स्नैपड्रैगन 410) भी इस फोन में दिया जा सकता था। कूलपैड ने फोन में 3 जीबी रैम दिया है जो इस कीमत में अब तक किसी ने नहीं दिया है। हालांकि, ज्यादा रैम होने से फोन की परफॉर्मेंस नहीं सुधरती और बेंचमार्क परिणाम पर इसका असर दिखता है। बेंचमार्किंग टेस्ट में हमें फोन से बहुत कम आंकड़े मिले।

फोन के बाकी स्पेसिफिकेशन की बात करें तो इसमें 16 जीबी स्टोरेज (32 जीबी तक एक्सपेंडेबल), वाई-फाई बी/जी/एन, ब्लूटूथ 4.0, यूएसी ओटीजी, एफएम रेडियो और जीपीएस जैसे फीचर हैं। फोन दोनों सिम स्लॉट पर 4जी और भारतीय बैंड सपोर्ट करता है।
 

एंड्रॉयड मार्शमैलो पर चलने वाले इस फोन में कूलपैड की अनजान सी कूलयूआई 8.0 स्किन दी गई है। हमारे हिसाब से इसमें बहुत ज्यादा सुधार और बदलाव की जरूरत है। नीचे से ऊपर स्वाइप करने पर कंट्रोल सेंटर मिलता है जिससे ब्राइटनेस कंट्रोल, ऐप शॉर्टकट और कस्टमाइज़ेन के लिए टॉगल स्विच मिलते हैं।

फोन में दिया गया सी बटन शाओमी के क्विक बॉल की तरह है जिससे आपको एक फ्लोटिंग सर्कुलर ओवरले मिलती है। यह डिस्प्ले के किनारो पर रहती है। इसे दबाए रखने से शॉ़र्टकट का एक क्राउज़ल खुल जाता है।
 

इसमें कुछ यूआई डिज़ाइन का विकल्प है और हमें लगता है कि अगर इन्हें थोड़ा अलग तरीके से दिया होता तो बेहतर रहता। जैसे नोटिफिकेशन शेड में किसी ईमेल नोटिफिकेशन को बिना ऐप खोले पढ़ना नामुमकिन है। होम स्क्रीन से म्यूज़िक प्लेयर को कंट्रोल करने का कोई तेज तरीका नही है। फोन में दिया गया थीम ऐप भी खासा बेकार है और विकल्प बहुत सीमित है और आपको जो थीम मिलेंगी शायद आपको पसंद भी ना आएं।

इसके अलावा फोन में एक फोन से दूसरे फोन में डेटा ट्रांसफर के लिए ‘ट्रांसफर’ ऐप, कॉल ब्लॉक करने, डेटा ट्रैफिक मैनेज करने और ऐप लॉक करने के लिए कूल मैनेजर दिया गया है।

परफॉर्मेंस
फोन में डिस्प्ले पपरफॉर्मेंस बहुत अच्छी है और इससे कलर रीप्रोडक्शन अच्छा होता है। सूरज की रोशनी में फोन पढ़ने योग्य रहता है लेकिन एम्बियंट लाइट सेंसर थोड़ा धीमा है और यह कई बार धीमे प्रतिक्रिया देता है। कई बार डिस्प्ले पर टच रिस्पॉन्स अच्छा नहीं मिलता और फोन प्रतिक्रिया नहीं करता। कॉल क्वालिटी अच्छी है लेकिन कॉल के दौरान स्पीकर का वॉल्यूम काफी कम है। फोन अधिकतर समय अच्छा चलता है हालांकि रियर व डिस्प्ले कैमरा इस्तेमाल के दौरान गर्म हो जाते हैं। हमने इसे कूलपैड मेगा 2.5डी की दो अलग-अलग यूनिट के साथ जांचा और दोनों से एक जैसा रिस्पॉन्स ही मिला।
 

कूलयूआई 8 पहली नज़र में काफी अच्छी लगती है लेकिन इसमें थोड़े ऐप और गेम सेट करने के बाद इसकी परफॉर्मेंस बहुत अच्छी नहीं होती। चाहें आप डिवाइस को अनलॉक कर रहें हों या किसी और ऐप में स्विच, इसके लिए फोन में आपको इसके लिए आपको एक स्पोरेडिक शटर मिलता है। फोन में भारी भरकम स्किन को कमजोर प्रोसेसर के साथ दिया गया है इसलिए 3 जीबी रैम भी फोन में कुछ नहीं कर सकता।

इसके अलावा फोन में मौसम के लिए मिलने वाली ज़ुईमेई नोटिफिकेशन व हेडफोन जैक अलर्ट भी परेशान करती है जिसे हटाया भी नहीं जा सकता। और नोटिपिकेशन शेड इससे भर जाता है। इसके अलावा एक और कमी जो हमें दिखी, वे है जीपीएस आइकन का लगातार फ्लैश करते रहना। गूगल का नाउ ऑन टैप भी काम नहीं करता हालांकि आप इसे इनेबल कर सकते हैं। कूलपैड का कहना है कि आने वाले समय में अपडेट मिलेगा।
 

मेगा 2.5डी में फुल एचडी वीडियो प्ले की जा सकती है लेकिन स्पीकर की वजह से ऑडियो परफॉर्मेंस काफी खराब मिलती है। फोन के साथ आने वाले हेडसेट से ऑडियो क्वालिटी अच्छी मिलती है। फोन में एक कस्टम म्यूज़िक प्लेयर है जिससे कूलम्यूज़िक नाम दिया गया है और यह फंक्शनल है। इसमें कई इक्वलाइज़र म्यूज़िक ट्वीक करने के लिए पहले से मौज़ूद हैं।

फोन में द मेगापिक्सल का फ्रंट व रियर कैमरा दिया गया है और दोनों से ही औसत परिणाम मिलते हैं। कैमरा ऐप साधारण है और इस्तेमला करने में आसान है। वीडियो, ब्यूटू, नाइट और प्रो जैसे शूटिंग मोड के लिए ऊपर या नीचे स्वाइप कर सकते हैं। फोकस स्पीड थीमी है और शटर में समस्या के चलते अच्छी तस्वीर लेने के लिए कैमरे को स्थिर रखना पड़ता है। मैक्रो तस्वीरें अच्छी डिटेलिंग के साथ आती हैं।
 

लैंडस्केप शॉट में कम डिटेलिंग मिलती हैं और इसमें ज़ूम करने पर ऑब्जेक्ट थोड़ा भद्दा दिखता है। कम रोशनी में कैमरा परफॉर्मेंस थोड़ी खराब है और इस कीमत वाले फोन से हमें ऐसी ही उम्मीद थी। वीडियो रिकॉर्डिंग अधिकतम 720 पिक्सल के साथ की जा सकती है लेकिन यह भी अच्छी रोशनी में ही काम आता है। बात करें सेल्फी फोन होने की तो कैमरा ऐप में गेस्चर या वॉयस कैप्चर जैसे फ़ीचर की कमी है। फोन में फेशियल एनहेंसमेंट के कई लेवल के साथ ब्यूटू मोड मिलता है लेकिन कुल मिलाकर कैमरा ऐप बेहतर किया जा सकता था। फ्रंट कैमरे से इंडोर में अच्छी तस्वीरें आती हैं।

हमारे वीडियो लूप टेस्ट में फोन में दी गई बैटरी ने 8 घंटे व 27 मिनट तक साथ दिया जो बुरा नहीं है। हालांकि, सामान्य इस्तेमाल के दौरान दो सिम एक्टिव रहने पर हम बैटरी डाउन होने का साइन होने से पहले इसे 17-18 घंटे ही चला सके। सिंगल सिम के साथ भी बैटरी इतनी ही चलती है। कूलपैड ने स्टैंडबाय पावर सेविंग विकल्प दिया है जिससे स्टॉक लॉन्चर एक बेसिक लॉन्चर में तब्दील हो जाता है और आप सिर्फ मैसेज व कॉलिंग ही कर सकते हैं। हालांकि, हमें समझ नहीं आया कि कूलपैड ने इस फोन में एक बड़ी बैटरी क्यों नहीं दी? फोन के साइज़ को देखते हुए हमें फोन में 4000 एमएएच की बैटरी मिलने की उम्मीद थी।
 

हमारा फैसला
कूलपैड मेगा 2.5डी स्मार्टफोन पहली नज़र में एक अच्छा फोन लगता है लेकिन एक हफ्ते तक इसे इस्तेमाल करने के बाद हमें थोड़ी निराशा हाथ लगी। यह फोन रेडमी 3एस का अच्छा विकल्प हो सकता था और यह एक बड़े स्क्रीन वाला फोन है। लेकिन फोन के खराब कंपोनेंट का चुनाव इसे रेडमी 3एस से पछाड़ देती है।

हम खासकर बात कर रहे हैं इसके चिपसेट और बैटरी की। इन दोनों ने ही फोन के अनुभव को खराब किया। मार्शमैलो पर दी गई भारी भरकम स्किन भी अच्छी नहीं है और कमजोर प्रोसेसर के चलते यह काफी दिक्कत करती है। कैमरा और बैटरी दो ऐसी जगह है जहां 2.5डी अटकता है।

फोन की बनावट शायद एकमात्र ऐसी चीज है जो फोन को अच्छा बनाती है लेकिन सिर्फ सुंदरता के आधार पर किसी फोन को नहीं खरीदा जा सकता। हमें उम्मीद है कि हम मेगा 2.5डी का एक अपग्रडेड वेरिएंट देखेंगे जिसमें दमदार और नया सीपीयू, बड़ी बैटर और ज्यादा ऑप्टिमाइज़ेशन वाला इंटरफेस होगा जिससे इस कीमत पर एक अच्छा फोन बन सके।

अभी, इस कैटेगरी में शाओमी रेडमी 3एस सबसे बेहतर फोन है और दूसरे नंबर पर लेनोवो वाइब के5 प्लस (रिव्यू) आता है।


Source link

Total Page Visits: 63 - Today Page Visits: 2