एलजी एक्स स्क्रीन का रिव्यू

रिसर्च फर्म गार्टनर के अनुसार, उभरते हुए बाजारों में इस साल कम कीमत वाले स्मार्टफोन की ज्यादा मांग की वजह से दुनियाभर में स्मार्टफोन की बिक्री में इज़ाफा हुआ है। 15,000 रुपये से कम कैटेगरी वाले स्मार्टफोन में टक्कर कभी इतनी कड़ी नहीं रही और स्मार्टफोन निर्माता हर महीने लगभग एक नई कोशिश को अंजाम दे रहे हैं।

फिलहाल इस ‘बजट’ कैटेगरी पर चीनी कंपनियां जैसे शाओमी, लेनोवो और लेईको का कब्दा है और ये सैमसंग से इनकी कड़ी प्रतिद्वंदिता है। आज इस सेगमेंट में कोई प्रोडक्ट लॉन्च करना ना केवल खतरे से भरा है बल्कि उम्मीदों के मुताबिक स्पेसिफिकेशन और फीचर के अलावा कुछ खास पेश करना सबसे बड़ी जरूरत बन गया है।

एलजी का लक्ष्य अपने नए एक्स स्क्रीन स्मार्टफोन की बदौलत इस बाजार पर पकड़ बनाने का है। इस स्मार्टफोन में एक दूसरी ‘टिकर स्टाइल’ डिस्प्ले दिया गया है। इससे पहले ऐसे स्क्रीन को पिछले साल एलजी के प्रीमियम स्मार्टफोन वी10 में सबसे पहले देखा गया था।

डिजाइन और बनावट
1.7 इंच सेकेंडरी कलर एलसीडी डिस्प्ले (80×520 पिक्सल रिज़ॉल्यूशन) हर समय ऑन रहती है यहां तक कि जब फोन ऑफ हो तब भी। इसलिए आप बिना मुख्य डिस्प्ले को ऑन किए बिना भी नोटिफिकेशन देख सकते हैं। नोटिफिकेशन उसी तरह दिखती हैं जैसे कि नोटिफिकेशन शेड में नज़र आती हैं। किसी ईमेल या व्हाट्सऐप से आने वाला पहला अलर्ट एक पूरे मैसेज के तौर पर दिखता है लेकिन इसके बाद उसी ऐप से आने वाले दूसरे अलर्ट पर सिर्फ ऐप आइकन और सेंडर की तस्वीर दिखेगी। इसके अलावा अलर्ट की बात करें तो आप समय, तारीख और बैटरी लेवल या कोई कस्टम मैसेज को स्थायी तौर पर दिखाने के लिए चुन सकते हैं।
 

फोन का डिस्प्ले खासा इंटरेक्टिव है इसलिए बायीं तरफ स्वाइप करने पर क्विक टूल आजाता है जहां साउंड प्रोफाइल, वाई-फाई, टॉर्च और एसओएस जैसे चार टॉगल स्विच मिलते हैं। इसके बाद दोबारा बांयी तरफ स्वाइप करने पर म्यूज़िक प्लेयर को कंट्रोल किया जा सकता है।

जब मुख्य डिस्प्ले ऑन होता है तो दूसरा स्क्रीन ज्यादा फंक्शनल हो जाता है और यह आपको हाल ही में इस्तेमाल किए गए चार रीसेंट ऐप, कैलेंडर अलर्ट, आपके फेवरेट ऐप के लिए शॉर्टकट और कॉन्टेक्ट दिखाता है।
 

हमें फोन में दिया गया दूसरा स्क्रीन बेहद काम का लगा क्योंकि यह एक नोटिफिकेशन एलईडी से कहीं ज्यादा बेहतर है। हमें लगता है कि अगर यह डिस्प्ले मुख्य डिस्प्ले की लंबाई के हिसाब से और बड़ा होता तो ज्यादा अच्छा रहता।

बात करें बनावट की तो, एलजी ने इस फोन के डिज़ाइन के साथ शानदार काम किया है और यह ग्लास के रियर की वजह से प्रीमियम फोन लगता है। फोन के किनारे फॉक्स-मेटल के बने हैं लेकिन मेटल जैसा लुक देते हैं। एक प्लास्टिक बॉडी वाले फोन के हिसाब से फोन की फिनिश अच्छी है और इसका वज़न सिर्फ 120 ग्राम है। फोन काफी पतला भी है और इसकी मोटाई सिर्फ 7.1 एमएम है।
 

4.93 इंच का प्राइमरी डिस्प्ले से एलजी की इन-सेल टच टेक्नोलॉजी को मजबूती मिलती है हालांकि सिर्फ एचडी रिज़ॉल्यूशन ही है। पहली बार में इसका कोई नकारात्मक प्रभाव नज़र नहीं आता लेकिन अगर आप गौर से देखें तो टेक्स्ट थोड़ा धुंधला सा दिखता है। ब्राइटनेस की बात करें तो कलर रीप्रोडक्शन अच्छा है और फोन को सूरज की रोशनी में भी आसानी से पढ़ा जा सकता है।

बटन प्लेसमेंट ठीक है और बटन काफी अच्छे से चलते हैं। दायीं तरफ एक हाइब्रिड डुअल सिम ट्रे दी गई है जिसका मतलब है कि एक साथ दो नैनो सिम या एक सिंगल सिम और एक माइक्रोएसडी कार्ड (128 जीबी तक) इस्तेमाल किया जा सकता है। नीचे की तरफ हेडफोन शॉकेट और माइक्रो यूएसबी पोर्ट के अलावा एक सिंगल स्पीकर ग्रिल है। रियर पर कैमरा मॉड्यूल थोड़ा उभरा हुआ है लेकिन इस्तेमाल के दौरान स्क्रैच ना पड़ना अच्छी बात है।
 

इस फोन में जो एक फीचर नहीं है वह है फिंगरप्रिंट सेंसर। यह निराशाजनक है कि एक्स स्क्रीन में अतिरिक्त सुरक्षा वाले इस फीचर को नहीं दिया गया है। अब बाजार में आने वाले बेहद अफॉर्डेबल स्मार्टफोन में भी यह फीचर दिया जा रहा है। इस फोन के साथ आपको एक डेटा केबल, पावर एडेप्टर और एक हेडसेट मिलेगा।

स्पेसिफिकेशन और फीचर
अब चीजें थोड़ा बदलना शुरू होती हैं। एलजी के10 एलटीई (रिव्यू) की तरह ही एलजी एक्स स्क्रीन में थोड़ा पुराना स्नैपड्रैगन 410 क्वाड-कोर प्रोसेसर दिया गया है जो आज इस दाम में बाजार में मिलना वाले स्मार्टफोन के प्रोसेसर से कहीं पुराना है। इसके अलावा, इस फोन में 2 जीबी रैम, 16 जीबी स्टोरेज है। फोन में वाई-फाई 802.11 बी/जी/एन, ब्लूटूथ 4.1, जीपीएस और एफएम रेडियो है। यह स्मार्टफोन यूएसबी ओटीजी सपोर्ट नहीं करता।
 

चिपसेट के पुराने होने का असर बेंचमार्क आंकड़ों पर पड़ता है। बेंचमार्क टेस्ट में हमें इस स्मार्टफोन से बहुत ज्यादा अच्छे आंकड़े नहीं मिले। लेकिन अच्छी बात यह है कि इस फोन में एंड्रॉयड लॉलीपॉप ना होकर एंड्रॉयड मार्शमैलो दिया गया है। स्टॉक इंटरफेस को एलजी यूआई 5.0 के साथ बदला गया है और यह बेहद काम का व इस्तेमाल करने में आसान है।

फोन में डिफॉल्ट तौर पर एक सिंगल लेयर लेआउट दिया गया है लेकिन आप अपनी जरूरत के हिसाब से ट्रेडिशनल ऐप ड्रॉयर पर स्विच कर सकते हैं। एसओएस मोड एक हैंडी फीचर है और अच्छे से काम करता है। एक बार इमरजेंसी कॉन्टेक्ट सेटअप करने के बाद पांच बार पावर बटन दबाने के बाद आपकी करंट लोकेशन के साथ उस कॉन्टेक्ट को फटाफट एसएमएस चला जाता है।
 

बात करें प्री-इंस्टॉल ऐप की तो फोन में गूगल के ऐप, फाइल मैनेजर, ट्रूकॉलर और एलजी का अपना ऐप व थीम स्टोर एलजी स्मार्टवर्ल्ड पहले से इंस्टॉल आता है। नेविगेशन बटन के क्रम को कस्टमाइज़ किया जा सकता है जबकि कैप्चर+ से किसी ऐप या तस्वीर को आसानी से कैप्चर व एडिट किया जा सकता है।

परफॉर्मेंस
पुराने प्रोसेसर के बावज़ूद, फोन में एंड्रॉयड मार्शमैलो अच्छे से चलता है। फोन में कुछ समस्या गौर करने वाली होती हैं जब फोन में ऐप स्टोर के जरिए कई सारी ब्राउज़िंग या क्रोम में एक साथ कई वेबपेज खोले जाते हैं। इसके अलावा ऐप लोड करना भी बहुत ज्यादा तेज नहीं है। एक्स स्क्रीन में पीछे की तरफ एलजी लोगो दिया गया है जहां फोन काफी गर्म महसूस होता है। हमने गौर किया कि कुछ तस्वीरें लेने और ऐप डाउनलोड करते समय भी फोन गर्म हो जाता है।
 

फोन में दूसरा स्क्रीन कई बार काफी काम का सिद्ध होता है लेकिन सीधे सूरज की रोशनी में एलसीडी डिस्प्ले वॉश आउट हो जाता है जिससे इसे पढ़ना मुश्किल हो जाता है। जब मुख्य स्क्रीन बंद होता है तो दूसरा स्क्रीन डिम हो जाता है। जब मुख्य स्क्रीन ऑन होता है तब भी दूसरा स्क्रीन पूरे ब्राइटनेस के साथ ऑन रहता है। दूसरे स्क्रीन के लिए एक ओलेड पैनल कहीं बेहतर विकल्प हो सकता था।
 

फोन हाथ में पकड़ने पर उतना नहीं फिसलता जितनी कि हमें उम्मीद थी। यह बाजार में उपलब्ध मेटल बॉडी वाले फोन की तरह ही पकड़ने में सुविधाजनक है। फोन में फुल एचडी वीडियो अच्छे से चलती है और म्यूज़िक प्लेयर में एक खास फीचर है जिससे यह उस गाने को ऑटोमेटिक सर्च कर देता है जिसे आप अभी सुन रहे हों। हालांकि, स्पीकर से मिलने वाली ऑडियो क्वालिटी बेहद औसत है। मोनो स्पीकर अलर्ट के लिए काफी तेज है लेकिन मीडिया फाइल प्ले होते समय यह प्रभावित नहीं करता। साथ आने वाले हेडसेट से सिर्फ कॉल ही की जा सकती है।

एलजी स्क्रीन में 13 मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा दिया गया है लेकिन आपको यहां पीडीएएफ फीचर नहीं मिलेगा इसलिए फोकस स्पीड बहुत अच्छी नहीं है। शूटिंग के दौरान सेंसर फोकस करने में एक या दो सेकेंड लगाता है। दिन की रोशनी में तस्वीरें अच्छी आती हैं। तस्वीरों की डिटेलिंग और कलर दोनों अच्छे हैं। इंडोर में ली गईं तस्वीरें थोड़ी बिखरी हुई होती हैं जो कम रोशनी में और खराब हो जाती हैं।
 

कम रोशनी में लैंडस्केप तस्वीरें काफी बेकार आती हैं लेकिन फ्लैश का इस्तेमाल करने पर क्लोज़-अप शॉट अच्छे आते हैं। 8 मेगापिक्सल के फ्रंट कैमरे को हथेली व वॉयस गेस्चर से सेल्फी के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं लेकिन दिन की रोशनी में भी तस्वीरें बहुत साफ नहीं आतीं।

कैमरा ऐप भी बेहद साधारण है और इसमें एचडीआर जैसे बेसिक फीचर की भी कमी है। कैमरे में पैनोरमा मोड मौज़ूद है और शटर बटन को देर तक दबाए रखने से बर्स्ट मोड एक्टिवेट हो जाता है जो अच्छे से काम करता है। दिन की रोशनी में रिकॉर्ड की गई वीडियो की क्वालिटी अच्छी है लेकिन कम रोशनी में वीडियो से बहुत ज्यादा उम्मीद ना रखें।

वीडियो लूप टेस्ट के दौरान फोन में दी गई 2300 एमएएच की बैटरी से 12 घंटे 13 घंटे तक की बैटरी लाइफ मिली। वहीं सामान्य इस्तेमाल के दौरान हम आसानी से फोन को एक दिन से ज्यादा चला पाए। फोन में फास्ट चार्जिंग टेक्नोलॉजी नहीं है लेकिन आधे घंटे में ही फोन 19 प्रतिशत तक चार्ज हो जाता है जो कि बुरा नहीं है।
 

 हमारा फैसला
एलजी एक्स स्क्रीन के साथ थोड़ा समय बिताने के बाद हमें लगता है कि काश दूसरे स्मार्टफोन निर्माता भी इस कॉन्सेप्ट को अपनाएं। एक दूसरे स्क्रीन से लगातार जरूरी जानकारी का मिलना वाकई सुखद अनुभव है और ऐप व फीचर के बीच फटाफट स्विच करने से भी काफी समय बचता है। अगर फोन में एलसीडी पैनल की जगह ओलेड पैनल दिया होता तो अनुभव और ज्यादा शानदार हो सकता था।

लेकिन, सिर्फ दूसरे स्क्रीन की वजह से ही यह फोन खरीदा जाए ऐसा नहीं है। एक्स स्क्रीन दूसरे कई फीचर की वजह से प्रतिद्वंदिता में पीछे रह जाता है। ऐसा लगता है कि बजट स्मार्टफोन के स्पेसिफिकेशन व फीचर के मामले में एलजी एक समय में अटक कर रह गई है और 2016 की जगह ये फोन 2015 में आए लगते हैं।

12,990 रुपये की कीमत में यह स्मार्टफोन एक पूरा पैकेज नहीं कहा जा सकता। अच्छे डिजाइन, बैटरी लाइफ और सेकेंड स्क्रीन के बावज़ूद इस फोन में एंड्रॉयड मार्शमैलो के हिसाब से क्षमता वाले स्पेसिफिकेशन नहीं है। फोन में फिंगरप्रिंट सेंसर व यूएसबी ओटीजी सपोर्ट भी नहीं मिलता। फोन की ओवरऑल कैमरा परफॉर्मेंस ठीकठाक है।


Source link

Total Page Visits: 69 - Today Page Visits: 2